Home » अजब गजब » 10 Foot Long Python Found Under DTC Bus in Delhi By Bus Driver
 

बस के नीचे बैठा था 10 फुट लंबा खतरनाक अजगर, देखते ही चीखने लगे लोग और फिर...

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 August 2018, 23:03 IST
(प्रतीकात्मक फोटो)

अगर आप बस में सफर कर रहे हों और आपको बता चले कि आपकी सीट के नीचे खतरनाक अजगर बैठा हुआ है, तो आप क्या करेंगे? यकीनन आपके होश उड़ जाएंगे. ऐसा ही एक नजारा देखने को मिला देश की राजधानी दिल्ली की डीटीसी की बस में. जब एक 10 फुट लंबा अजगर बस में बैठा मिला.

खबरों के मुताबिक डीटीसी की राजघाट डिपो-2 की बस में दस फुट का अजगर मिला. जिसे वन्य जीव संरक्षण करने वाले एक एनजीओ ने रेस्क्यू कर जंगल में छोड़ दिया गया. बता दें कि वन्य जीव संरक्षण एनजीओ एसओएस को गुुरुवार रात एक इमरजेंसी कॉल मिली, उन्हें बताया गया कि, बस ड्राइवर ने सीएनजी भरवाते वक्त बस के नीचे से कुछ अजीब सी आवाजें सुनीं. जब उसने उस आवाज के बारे में जानने की कोशिश की तो देखते ही उसके होश उड़ गए. क्योंकि दस फुट लंबा अजगर बस के नीचे बैठा हुआ था.

खबरों के मुताबिक, डिपो के एक कर्मचारी लोकेश कुमार ने बताया कि, "बस ड्राइवर को बस के नीचे से एक आवाज सुनाई दी, उसने जैसे ही आवाज के बारे में जानने की कोशिश और बस के नीचे झांक कर देखा, जहां दस फुट लंबा अजगर बैठा हुुआ था, अजगर को देखते ही ड्राइवर कांपने लगा और हमें सूचना दी."

अजगर की सूचना मिलते ही एनजीओ के सदस्य मौके पर पहुंच गए. उसके बाद उन्होंने अजगर को पकड़ लिया. बता दें कि बरसात के मौसम में अक्सर सांप जंगलों से निकल कर रिहायशी इलाकों में पहुुंच जाते है.

Wildlife SOS

वाइल्ड लाइफ एसओएस के सह-संस्थापक और सीईओ कार्तिक सत्यनारायण ने कहा,"शहरी इलाकों में एक अजगर मिलना कोई बड़ी बात नहीं है. ऐसे अजगर राजघाट के पीछे छोटे वन क्षेत्र से घूमते मिल सकते हैं." उन्होंने कहा कि, "हमें यह देखकर खुशी हो रही है कि लोग इन प्राणियों के प्रति अधिक संवेदनशील हो रहे हैं और उन्हें मारने की बजाए तुरंत ऐसी घटनाओं की सूचना अधिकारियों को देते हैं."

ये भी पढ़ें- चमत्कार से कम नहीं है इस बच्ची का जन्म, 9 महीने में 2 बार मां के गर्भ से हुई पैदा

बता दें भारतीय पायथन जहरीले नहीं होते, लेकिन इनके काटने से इंसान को गंभीर चोट लग सकती है. कुछ दिन पहले दिल्ली में ही एक आदमी के स्कूटर पर एक अजगर बैठा हुआ मिला था. जिसे वन्य जीव संरक्षण की टीम ने रेस्क्यू कर जंगल में छोड़ दिया था.

ये भी पढ़ें- सलाम: प्रोफेसर ने नहीं कराया अपना कैंसर का इलाज, पूरी प्रॉपर्टी कर दी गरीब छात्रों को दान

First published: 31 August 2018, 22:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी