Home » अजब गजब » Amethi: Divyang Amar Bahadur passed 10th exam by writing with his feet
 

नहीं थे हाथ.. पैरों से किस्मत लिखना शुरू किया और 10वीं की परीक्षा पास कर सबको कर दिया हैरान

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 February 2020, 13:19 IST

हमारी उड़ान देखनी है तो आसमां से कह दो कि वो अपना कद और ऊंचा कर ले. इस कहावत को चरितार्थ किया है उत्तर प्रदेश के एक दिव्यांग ने. इनका नाम है अमर बहादुर. ये उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले में रहते हैं. अमर बहादुर के दोनों हाथ नहीं हैं, लेकिन उनके हौसलों में कोई कमीं नहीं है. हाथ न होने के बाद भी उनकी पढ़ाई में कभी बाधा नहीं आई और उन्होंने पैरों से हाईस्कूल की परीक्षा पासकर नजीर पेश की.

अमेठी जिले के पिंडोरिया ग्राम के करेहेंगी गांव के रहने वाले अमर बहादुर, रामलखन और केवला देवी के दिव्यांग पुत्र हैं. अमर के हाथ बचपन से काम नहीं करते थे इस कारण उन्होंने पैरों से अपनी किस्मत लिखना शुरू की. उन्होंने रामबली इंटर कॉलेज में साल 2017 में हाईस्कूल की परीक्षा के दौरान कापी अपने पैरों से लिखी.

परीक्षा परिणाम आने के बाद लोग दंग रह गए. उन्होंने 59 प्रतिशत अंक लाकर अपने गांव का मान बढ़ा दिया. मां ने बेटे की इस सफलता पर बताया कि इसके दोनों हाथ बचपन से ठीक नहीं है. इसे पहले हम खाना खिलाते थे लेकिन अब वह अपने पैरों से खुद ही खाना खाता है. बचपन से ही इसकी पढ़ने में रुचि थी. पैसे के अभाव में हम ज्यादा अच्छे स्कूल में शिक्षा नहीं करवा पा रहे. 

मां ने बताया कि वह छोटी आयु से ही आसपास के बच्चों को पढ़ने जाते देख पढ़ाई की जिद करता था. इसके बाद वह पैर से ही सिलेट पर लिखने लगा. हम लोगों ने तब उसका उत्साह बढ़ाना शुरू किया. वहीं अमर ने बताया कि हाईस्कूल की परीक्षा पास करने से मेरा हौसला बढ़ा है. मैं ज्यादा मेहनत करूंगा और शिक्षक बन कर देश समाज का नाम रोशन करूंगा.

मैनपुरी में शर्मनाक घटना, शादी समारोह में आई 3 साल की मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म

कन्हैया कुमार राष्ट्रगान गाते-गाते कर गए झोल ! लोग बोले- पाकिस्तान का दलाल देश तोड़ रहा

First published: 29 February 2020, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी