Home » अजब गजब » bikers fall down on road due to heart attack traffic constables save his life in hyderabad, social media, viral news
 

इस शख्स को पड़ा दिल का दौरा, जान डॉक्टर ने नहीं ट्रैफिक पुलिस ने बचाई, वीडियो हुआ वायरल

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2018, 17:04 IST

इनदिनों हैदराबाद में दो पुलिसकर्मियों की सूझबूझ की खूब तारीफ हो रही है. इन पुलिसकर्मियों ने एक शख्स की जान बचाकर अपनी जिम्मेदारी और इंसानियत का परिचय दिया है. घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

ये भी पढ़ें- VIDEO: इस देश में आसमान से गिरी ये भारी चीज बनी रहस्य का विषय

दरअसल, हैदराबाद में एक शख्स 31 जनवरी को स्कूटर से धूलपेट से टड बुंड की ओर जा रहा था. कि अचानक वह स्कूटर से गिर गया. जैसे ही यह शख्स जमीन पर गिरा वहां मौजूद दो ट्रैफिक कॉन्सटेबल चंदन सिंह और इनायतुल्लाह खान कादरी उसके पास पहुंच गए. दोनों पुलिसवालों को समझते देर नहीं लगी कि इस शख्स को हार्ट अटैक आया है. उसके बाद एक यात्री और उनके पास पहुंच गया. इस दौरान चंदन ने उस व्यक्ति को सीपीआर दिया. जिससे उस शख्स की सांसें वापस आ चलने लगीं.

सोशल मीडिया पर वायरल हुआ वीडियो 

इस घटना का पूरा वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इस वीडियो में देखा जा रहा है कि एक पुलिसकर्मी और एक शख्स एक व्यक्ति को पकड़े हुए हैं. एक शख्स उसे पीछे से पकड़े हुए है. वहीं पुलिसकर्मी उस शख्स के सीने को जोर-जोर से दबा रहा है. इस शख्स की हालत इतनी नाजुक है कि वो हिल-डुल तक नहीं रहा है. एक मिनट तक उसका सीना दबाने के बाद आखिरकार उस शख्स की सांसें चलने लगीं.

चारों तरफ पुलिसवालों की हो रही है तारीफ

वीडियो के वायरल होने के बाद हर कोई न दोनों पुलिसकर्मियों की तारीफ कर रहा है. आम लोग ही नहीं बल्कि आईटी मंत्री केटी रामा राओ तक ने इन दोनों की तारीफ की है. द न्यूज मिनट के मुताबिक पुलिसकर्मी चंदन सिंह ने बताया, ‘मैं अपनी जिंदगी में इतनी तेजी से कभी नहीं दौड़ा था. मुझे इस बात का भी डर नहीं था कि रास्ते में कोई गाड़ी आ रही है या नहीं. मैं बस उसे बचाने के लिए दौड़ पड़ा रहा था. मैं जानता था कि उसकी स्थिति काफी गंभीर है. वह हिल भी नहीं रहा था.’

चंदन ने आगे बताया, ‘वह बेहोश पड़ा हुआ था. मैंने तुरंत ही उसकी पल्स चेक की, मैंने पाया कि वहां कोई भी हार्टबीट नहीं थी. तभी अचानक ही एक अन्य यात्री मेरी सहायता के लिए आ गया और मैंने उसे सीपीआर दिया. हमें टीटीआई ट्रेनिंग में इसके बारे में सिखाया गया था. मैंने करीब 1 मिनट तक सीपीआर दिया, जब उसने फिर से सांस लेना शुरू नहीं कर दिया. मैं उस पूरी प्रोसेस से काफी थक गया था, लेकिन मैं खुश था कि वह बच गया.’ चंदन ने बताया कि उनके साथी इनायतुल्लाह ने तुरंत ही ट्रैफिक को संभाला और एंबुलेंस बुलाई.

First published: 10 February 2018, 17:04 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी