Home » अजब गजब » Companies now offering bereavement leave to their employees to help staff cope with loss
 

अपनों की मौत होने पर अब मिलेगा शोक अवकाश

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 September 2017, 16:20 IST

आजकल कंपनियां लगातार अपने कर्मचारियों को दी जाने वाले सुविधाओं को बढ़ा रही हैं. अब कंपनियां अपने कर्मचारियों को भावनात्मक सपोर्ट के लिए काउंसल करने तक की व्यवस्था करने लगी हैं.

इसी के साथ अब कुछ कंपनियां अपने कर्मचारियों को दुख की घड़ी से उबरने के लिए भी छुट्टी देने लगी हैं. कंपनियां किसी करीबी के गुजर जाने पर अपने कर्मचारियों को एक से पांच दिन तक की छुट्ट दे रहीं हैं. इन कंपनियों में टीसीएस, इंफोसिस, सिप्ला और हिल्टन इंडिया शामिल हैं. किसी भी शोक पर मिलने वाली छुट्टी को बिरीवमेंट लीव कहा जाता है.

बिरीवमेंट लीव कर्मचारियों को किसी भी प्रकार के शोक पर दी जाने वाली लीव हैं. बिरीवमेंट लीव के तहत परिवार के खास लोग जैसे पति, पत्नी, माता-पिता, भाई-बहन, बच्चे, दादा-दादी, नाना-नानी की मौत पर छुट्टी दी जाती हैं. अन्य रिश्तेदारों की मौत पर ये लीव नहीं दी जाती हैं लेकिन कुछ चुनिंदा पेट्स की मौत पर भी बिरीवमेंट लीव दी जाती हैं.

कुछ कंपनियां कहती है कि पेट्स भी हमारे परिवार का हिस्सा हैं इसलिए उनको लेकर भी शोक के लिए छुट्टी दी जानी चाहिए. इसके पहले कर्मचारियों को प्रिवलेज लीव के लिए अप्लाई करना पड़ता था.

कैसे शुरू हुए ये चलन
2015 में फेसबुक के सीओओ शेरिल शैंडबर्ग के पति की मौत के बात सीईओ मार्क जकरबर्ग ने उन्हें कहा कि वे इस दुख की घड़ी में संभालने के लिए जितना समय चाहें उतना समय ले सकती हैं. इसी के साथ फेसबुक ने अपनी एचआर पॉलिसी में बदलाव करके बिरीवमेंट लीव का ट्रेंड शुरू किया.

इस बात को शैंडबर्ग ने अपने फेसबुक पर साझा भी किया और बताया कि बिरीवमेंट लीव के वजह से उन्हे अपने दुख से बाहर निकलने मे काफी मदद मिली. इसके बाद फेसबुक के कर्मचारियों को 20 दिन के लिए बिरीवमेंट लीव का ऐलान हुआ. आपको बता दें कि शोक मनाने के लिए किसी भी कंपनी द्वारा दी जाने वाली यह सबसे लंबी छुट्टी है.

लीव न देने की कोई कानूनी बाध्यता नहीं
लेकिन आपको इस बात का ध्यान देना होगा कि मैटरनिटी लीव की तरह ही कर्मचारियों को बिरीवमेंट लीव देने के लिए कोई कानूनी बाध्यता नहीं है. हालांकि कंपनियां दुख की घड़ी में अपने कर्मचारियों को इसलिए साथ देती हैं क्योंकि इससे कर्मचारी का कंपनी पर भरोसा बढ़ता है. और कंपनियां आजकल अपने कर्मचारियों को लुभाने को कोई भी मौका नहीं छोडऩा चाहती हैं. इसलिए बिरीवमेंट लीव देती है.

First published: 10 September 2017, 16:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी