Home » अजब गजब » रेलवे के इंजीनियरों का कारनामा, 7 घंटे में तैयार कर डाला पुल
 

रेलवे इंजीनियरों का कारनामा, 7 घंटे में तोड़कर फिर बना कर डाला 100 साल पुराना पुल

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 January 2018, 14:21 IST

बीते कई समय से भारत में रेल दुर्घटनाओं की संख्या में जोरदार बढ़ोतरी दर्ज की गई है लेकिन रेलवे पुलों का निर्माण करने वाले भारतीय इंजीनियरों का लोहा दुनिया आज भी मानती है. इस बार रेल मंडल के इंजीनियरों ने एक अजब कारनामा कर दिखाया है.

लक्सर-मुरादाबाद रेल लाइन पर स्थित एक सौ साल पुराने पुल को रेल मंडल मुरादाबाद के इंजीनियरों ने तोड़ डाला, इस दौरान रेल यातायात को रोकना पड़ा. लेकिन अगले 7 घंटे बाद हर कोई हैरान था, जब लोगों ने इस पुल पर देहरादून-इलाहाबाद लिंक एक्सप्रेस को दौड़ते हुए देखा। इंजीनियरों के इस कारनामे को देखकर हर कोई हैरान था.

रेल अधिकारियों की माने तो पिछले कई सालों से इस पुल की हालत बेहद ख़राब हो गई थी. जिसका असर ट्रेनों की रफ़्तार पर पड़ने लगा था. इस पुल से गुजरने वाली ट्रेनों को तकरीबन 15 मिनट इस पुल के कारण वक़्त गंवाना पड़ता था. अधिकारियों के अनुसार अब इस पुल से रेल की रफ़्तार फिर से 100 के पार पहुँच जाएगी.

मुरादाबाद मंडल रेल प्रबंधक अजय कुमार सिंघल का कहना है कि नजीबाबाद-मुरादाबाद के बीच स्थित यह पुल तकरीबन 100 साल पुराना हो चुका था. बुधवार सुबह 9.36 मिनट पर यहाँ प्रवर मंडल अधीक्षक अपनी पूरी टीम के साथ पहुंचे.पहले क्रेन और अत्यधुनिक उपकरणों के साथ पुल के ऊपर से गुजर रही रेल लाइन को हटाया गया।.

इस कार्य में पोर्कलैंड मशीन, 90 टन क्षमता की क्रेन और 20 जेसीबी के साथ रेलवे ने पुुराना पुल संख्या 1218 ट्रैक पर काम शुरू किया। जिसके बाद इस पुल को तोडा गया. दोपहर के डेढ़ बजे तक इस पुल का मलबा हटा दिया गया. इसके बाद फेब्रीकेटिंग मटीरियल से पुल का निर्माण शुरू किया गया. 3.05 बजे पुल का ढांचा तैयार कर लिया गया. इसके बाद  के 5.15 बजे पुल पर रेल लाइन बिछाने का काम भी पूरा कर लिया गया. 

पुल का काम पूरा होने के बाद शाम के 5.40 बजे पुल से देहरादून से इलाहाबाद जाने वाली ट्रेन को गुजरने के लिए हरी झंडी दे दी गई. इस सफलता के बाद रेल अधिकारियों का दावा है कि वह जल्द की ऐसे अन्य पुलों का भी कायाकल्प कर करेगा. इनमे रुड़की-सहारनपुर लाइन पर दो पुल और शाहजहां -हरदोई लाइन पर एक पुल निर्माण के लिए चिन्हित किये गए हैं.

इससे पहले 3.1 मीटर लंबाई का पुराना एक पुल 31 दिसंबर 2017 को बनाया गया था उस पर से ट्रेन 40 किमी. प्रति घंटा की रफ्तार से गुजर रही हैं

First published: 5 January 2018, 14:21 IST
 
अगली कहानी