Home » अजब गजब » Coronavirus: Labour death in Delhi, From lockdown family cremates symbolic straw dummy
 

Coronavirus: दिल्ली में हुई मौत, लॉकडाउन की वजह से नहीं पहुंचा शव, परिवार ने की पुआल की अंत्येष्टि

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 April 2020, 16:31 IST

Coronavirus: कोरोना वायरस के खौफ की वजह से पूरे देश में 3 मई तक लॉकडाउन है. इस दौरान किसी को भी घर से बाहर निकलने की अनुमति नहीं है. इस दौरान दिल्ली में एक मजदूर की बीमारी से मौत हो गई, लेकिन लॉकडाउन होने की वजह से उसका शव उसके गांव नहीं ले जाया गया. इसके बाद परिवार के लोगों ने मजदूर के शव के रूप में पुआल का अंत्येष्टि संस्कार किया.

घटना उत्तर प्रदेश के जिले गोरखपुर के एक गांव की है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, 37 साल के एक मजदूर की मौत दिल्ली में चिकन पॉक्स की वजह से हो गई. लेकिन लॉकडाउन की वजह से उस मजदूर के शव को उसके गांव नहीं ले जाया जा सका. इस कारण परिवार ने गांव में शव की जगह 'पुआल' रखकर प्रतीकात्‍मक तौर पर अंतिम संस्‍कार किया.

महाभारत की 'द्रौपदी' पर भी हुई थी मॉब लिंचिंग की कोशिश, बोलीं- 18 लोगों ने गाड़ी से उतारकर मारा था

37 साल का मजदूर सुनील दिल्‍ली में मजदूरी कर अपना और अपने परिवार का भरण पोषण करता था. देश में जब कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन हुआ तो मजदूर को चिकन पॉक्‍स हो गया. इस कारण उसकी मौत हो गई. उसका परिवार गोरखपुर में बेहद गरीबी में गुजर-बसर करता है. सुनील मजदूरी करने के लिए इसी साल दिल्‍ली गया था.

सुनील दिल्ली में टायर रिपेयर करने वाली शॉप में काम करता था, वह किराये के मकान में रहता था. लॉकडाउन के दौरान जब सुनील भयंकर बीमार हुआ था तो मकान मालिक उसे हिंदूराव अस्‍पताल ले गए थे. डॉक्‍टरों ने उसे सफदरजंग में रेफर कर दिया था. यहां 14 अप्रैल को उसकी मौत हो गई.

WHO की डरावनी चेतावनी- कोरोना वायरस को लेकर इससे भी बुरा वक्त अभी आने वाला है..

Coronavirus: पुणे में एक अस्पताल की 19 नर्सों सहित 25 मेंबर्स कोरोना वायरस पॉजिटिव

Coronavirus: घर पहुंचने के लिए 100 किमी पैदल चली 12 साल की बच्ची, लेकिन 14 KM पहले तोड़ दिया दम

First published: 21 April 2020, 16:31 IST
 
अगली कहानी