Home » अजब गजब » Do you know what RBI will do with your old 500-1000 currency notes, here's the details
 

जानिए जान से प्यारे आपके पुराने नोटों का क्या होगा?

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 November 2016, 15:34 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बीते 8 अक्तूबर को कालेधन पर लगाम लगाने के लिए 500-1000 रुपये के पुराने नोटों के प्रचलन पाबंदी लगाने की घोषणा के साथ ही इन्हें बदलने के लिए बैंकों में जाने के लिए कहा. जाहिर है लोगों के जान से प्यारे यह नोट अब बैंकों में इकट्ठा होते जा रहे हैं. ऐसे में आपके जेहन में यह सवाल उठना लाजमी है कि आखिर इन पुराने नोटों का इतना भारी अंबार इकट्ठा करने के बाद रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया इनका क्या करेगी?

दरअसल 10 दिसंबर से देशभर के बैंकों-डाकघरों, सरकारी अस्पतालों, पेट्रोल-सीएनजी पंपो, रेलवे-बस-हवाई अड्डों, बिजली-पानी-संपत्ति कार्यालयों समेत तमाम सरकारी कार्यालयों में लोग अपने पुराने नोट देकर या तो नए नोट ले रहे हैं या फिर इन्हें देकर अपने पुराने बिल जमा कर रहे हैं या भुगतान कर रहे हैं. 

जानिए 500-1000 के नोट बंद होने के 

30 घंटे

 के भीतर क्या हुआ

इसका सीधा सा मतलब कि सरकारी संस्थानों, बैंकों के पास भारी तादाद में पुराने करेंसी नोट इकट्ठा होते जा रहे हैं. इन सभी के पास इकट्ठा नोटों को बाद में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पास भेजा जाएगा. जहां इन नोटों का भविष्य तय किया जाएगा. लेकिन आरबीआई ने इन पुराने करेंसी नोटों का भविष्य तय करते हुए पहले ही बता दिया है कि वह इन नोटों को नष्ट करेगा.

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, "हम पूरी तरह से इन पुराने करेंसी नोटों की श्रेडिंग (नोटों का महीन काटकर नष्ट करना) करने के लिए हर तरह से तैयार हैं." 

30 हजार करोड़ 

के नोटों

 में आग लगाएगी 

आरबीआई

उन्होंने नाम न छापने की शर्त पर बताया, "क्योंकि इन नोटों को रिसाइकल नहीं किया जा सकता है, इसलिए इन्हें श्रेड किया जाएगा और फिर इन्हें पिघलाकर कोयले की ईंटों को तैयार किया जाएगा. इसके बाद इन ईंटों को ठेकेदारों को दे दिया जाता है जो इनका इस्तेमाल सड़कों के गड्ढों जैसी लैंड फिलिंग के लिए करते हैं."

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मार्च 2016 तक देश में 1,570.70 करोड़ 500 रुपये के नोट प्रचलन में थे. जबकि 1,000 रुपये के 632.60 करोड़ नोट लेनदेन में इस्तेमाल किए जा रहे थे.

10 मुल्कों की मुद्राएं और उन पर छपीं मशहूर महिलाएं

वहीं, दुनिया के अलग-अलग मुल्कों में पुराने नोटों को अलग-अलग ढंग से नष्ट किया जाता है. कहीं पर इन्हें जला दिया जाता है तो कहीं पर इनसे खाद बनाई जाती है. 

First published: 13 November 2016, 15:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी