Home » अजब गजब » Dog Gets Honorary Diploma For helping Needy From Clarkson University
 

इस यूनिवर्सिटी ने डॉगी को दिया मानद डिप्लोमा, इस खास काम के लिए किया सम्मानित

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 December 2018, 12:11 IST

कुत्ता इंसान के सबसे करीबी और वफादार जानवर होता है. इसीलिए ज्यादातर लोग अपनी सुरक्षा के लिए कुत्ते को पालते हैं. एक बार फिर एक कुत्ते ने इस बात को सच कर दिखाया है. क्योंकि ब्रिटनी हाउले नाम की एक स्टूडेंट की उनके कुत्ते ने हर हालत में मदद की. चाहे वो क्लास में हों या घर पर.

किसी चीज की जरूरत पड़ने पर उनका कुत्ता ही उनकी मदद करता है. अगर उन्हें अपने मोबाइल फोन की जरूरत होती तो इसे भी वह ढूंढकर ब्रिटनी तक पहुंचा देता है. यहां तक कि वो इंटर्नशिप की तहत जब वह मरीजों की मदद कर रही होती थीं, तब भी उनका कुत्ता बगल में दुम हिलाते हुए उनके साथ खड़ा था.

बीते शनिवार को ब्रिटनी क्लार्कसन विश्वविद्यालय से ऑक्यूपेशनल थैरेपी में मास्टर डिग्री पूरी करने के बाद अपना डिप्लोमा ले रही थीं तो ग्रिफिन नाम का उनका ये कुत्ता भी उनके साथ मौजूद था. हाउले ने सोमवार को बताया कि स्नातक की कक्षा के पहले दिन से ही वह उसके साथ रहा. उन्होंने कहा, ''जो मैंने किया, इसने भी वह सब कुछ किया.

पोस्टडैम न्यूयार्क स्कूल के बोर्ड ट्रस्टी ने शनिवार को 'गोल्डन रीट्रीवर नस्ल के चार वर्षीय इस कुत्ते को भी सम्मानित करते हुए कहा कि, हाउले की सफलता में इसने असाधारण योगदान दिया. कुत्ते ने हर वक्त साथ रहकर उनकी पूरी मदद की. बता दें कि विभिन्न चुनौतियों से जूझ रहे निशक्त लोगों की मदद करने वाले ऐसे प्रशिक्षित कुत्तों को 'सर्विस डॉग कहा जाता है.

बता दें कि उत्तरी कैरोलाइना में विल्सन की रहने वाली हाउले व्हीलचेयर के सहारे चलती हैं. उन्हें क्रॉनिक पेन की समस्या है. उन्होंने कहा कि ग्रिफिन दरवाजा खोलने, लाइट जलाने और इशारा करने पर कोई भी चीज लाने जैसे कई काम करता है. भले यह काम उतना बड़ा ना लगे लेकिन जब वह भीषण दर्द का सामना करती थीं, तो वह उनके लिए बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता थाब्रिटनी हाउले और ग्रिफिन ने इंटर्नशिप के दौरान नार्थ कैरोलाइना के फोर्ट ब्राग में काम किया. इस दौरान उन्होंने चलने फिरने में दिक्कतों का सामना करने वाले सैनिकों तथा अन्य जरूरतमंद मरीजों की मदद भी की थी.

ये भी पढ़ें- गरीब बच्चों को पढ़ाने के लिए 12 साल के बच्चे ने खोल दिया स्कूल, खास है इसके पीछे की वजह

First published: 20 December 2018, 12:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी