Home » अजब गजब » Dolphins and Sea Lions Protect the world's largest stockpile of Nuclear weapons in US
 

यहां इंसान नहीं बल्कि डॉल्फिन और समुद्री शेर करते हैं हथियारों की सुरक्षा

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 March 2020, 14:10 IST

Dolphins and Sea Lions protect nuclear weapons: अपनी सीमाओं (Borders) की सुरक्षा और दुश्मन को किसी भी युद्ध (War) में मात देने के लिए हर देश तमाम हथियार (Wapons) रखता है. इन हथियारों की सुरक्षा के लिए तमाम सैनिकों (Soldiers) की तैनाती की जाती है. जहां हथियार रखे जाते हैं उन स्थानों को खुफिया या संवेदनशील इलाके कहा जाता है. दुनिया में एक ऐसी ही जगह है. जहां परमाणु हथियारों का सबसे बड़ा भंडार है और उसकी सुरक्षा डॉल्फिन और समुद्री शेर करते हैं. जिसके बारे में आम इंसान सोच भी नहीं सकता.

दरअसल, अमेरिका के सिएटेल शहर से करीब 20 मील दूरी अमेरिकी नेवी का बेस कैंप है, जिसे 'नेवल बेस किटसैप' कहा जाता है. यह जगह दुनियाभर में इसलिए मशहूर है, क्योंकि अमेरिका के करीब एक चौथाई परमाणु हथियार यहीं पर रखे हुए हैं कि इनके इस्तेमाल से कई देशों को एक बार में नष्ट किया जा सकता है. इसी वजह से इस जगह को दुनिया में परमाणु हथियारों का सबसे बड़ा भंडार कहा जाता है.


अमेरिका ने अपने इस परमाणु भंडार की रक्षा के लिए इंसान या मशीन नहीं बल्कि डॉल्फिन और सी लॉयन यानी समुद्री शेरों की फौज तैनात की है. इस अनोखी फौज में करीब 85 डॉल्फिन और 50 समुद्री शेर तैनात हैं. इन्हें खासतौर पर परमाणु हथियारों की रक्षा के लिए कैलिफोर्निया स्थित एक प्रशिक्षण केंद्र में प्रशिक्षित किया गया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, डॉल्फिन और समुद्री शेरों के शरीर में एक बाइट प्लेट फिट कर दी जाती है.

अगर कोई घुसपैठिया समुद्री रास्ते से परमाणु हथियारों के पास जाने की कोशिश करता है तो ये समुद्री जीव उसके पैर से जाकर टकराते हैं, जिससे प्लेट उनकी टांग में चिपक जाती है और वो तब तक उसे बाहर नहीं निकाल सकता है, जब तक कि उससे संदेश समुद्री जीवों के हैंडलर तक नहीं पहुंच जाता. इससे घुसपैठिये पर नजर रखी जाती है और जरूरत पड़ने पर कार्रवाई भी की जाती है.

बता दें कि डॉल्फिन और समुद्री शेरों को यह काम इसलिए सौंपा गया है, क्योंकि डॉल्फिन के अंदर तमाम तरह की खूबियां होती हैं और वो समुद्र के काफी नीचे की चीजों का भी पता लगा सकती है. इसके अलावा समुद्री शेरों की सुनने और देखने की क्षमता बहुत तेज होती है. वह समुद्र की गहराई में, जहां सिर्फ अंधेरा ही होता है, वहां भी ये देख सकते हैं. यही वजह है कि इन्हीं दो समुद्री जीवों को अमेरिका ने अपने परमाणु हथियारों की सुरक्षा का जिम्मा सौंपा है.

Coronavirus: यूपी के गांव का नाम कोरौना, नाम पूछते ही लोग हो जाते हैं दूर

ये है दुनिया की सबसे खतरनाक जगह, यहां अकेला रहता है ये शख्स, जानिए क्या है वजह

कोरोना वायरस का खौफ: सुपरमार्केट में आई महिला को छींक तो फेंक दिया 26 लाख का सामान

First published: 31 March 2020, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी