Home » अजब गजब » European country Latvia’s people speak less due to theie culture and creativeness
 

सबसे ज्यादा खामोश रहते हैं इस देश के लोग, दुनिया में बजता है इनकी क्रिएटिविटी का डंका

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 June 2018, 15:20 IST

बहुत से लोग ज्यादातर समय चुप रहते हैं कम बोलते हैं. ऐसे लोगों को अक्सर लोग टोक देते हैं कि आप कम क्यों बोलते हैं. या आप हमेशा खामोश रहते हैं. हो सकता है कि हमारे देश में कुछ लोग कम बोलते हों, लेकिन यूरोप में एक ऐसा देश है जहां पूरे देश के लोग ही कम बोलना पसंद करते हैं. यानी पूरा का पूरा देश खामोशी पसंद करने वाला है. इस देश का नाम है लातविया.

दरअसल, लातविया की संस्कृति के मुताबिक यहां के लोग कम बोलना पसंद करते हैं. कम बोलना यहां की संस्कृति का एक हिस्सा है. हालांकि ऐसा नहीं कि ये यहां के लोग कम बोलने के साथ-साथ लोगों से नफरत करने वाले होते है. बल्कि किसी को कोई परेशानी होने खुद ही उसकी मदद करते हैं.

लातविया के लोग काफी क्रिएटिव होते हैं और उनका मानना है कि कम बोलने से रचनात्मकता बढ़ती है. लातविया के एक मनोवैज्ञानिक के मुताबिक क्रिएटिविटी लातविया के लोगों की पहचान के लिए जरूरी है. इसीलिए ये लोग कम बोलना पसंद करते हैं.

 

यहां के लोगों का दिमाग हर समय कुछ नई चीजें सोचता रहता है. बीबीसी की खबर के मुताबिक लातविया की लेखिका अनेते कोनस्ते कहती हैं कि कम बोलना, लोगों से कम मिलना जुलना अच्छी आदत नहीं है. जहां सारी दुनिया एक मंच पर आ गई है. हर विषय पर लोग खुलकर अपनी राय रख रहे हैं। वहां लातविया के लोगों का खामोश रहना नुकसान दे सकता है और इन लोगों को अपनी आदत बदलने की जरूरत है.

ये भी पढ़ें- बदलापुर: रिश्तेदारों का ताना ऐसा खटका कि खाने में जहर मिलाकर ले ली जान

 

First published: 23 June 2018, 15:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी