Home » अजब गजब » German Engineers Amazing Invention Of Magdeburg Water Bridge On Elbe Havel Canal
 

80 साल पुराने आइडिया पर इस देश के इंजीनियर्स ने किया ऐसा काम कि बना दी नदी के ऊपर नदी

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 October 2018, 16:42 IST

दुनियाभर में ऐसे तमाम इंजीनियर है जो अपने अपने कारनामों के लिए जाने जाते हैंऐसे ही तमाम इंजीनियर्स आपको जर्मनी में देखने को मिल जाएंगे. जो दुनिया के कुछ बेहतरीन चीजों का निर्माण करते हैं. ऐसा ही कुछ किया है यहां के इंजीनियर्स ने जो दुनियाभर के वैज्ञानिकों के लिए सबसे अनोखा है.

 

दरअसल, यहां के इंजीनिर्स ने अपनी अद्भुत इंजीनियरिंग का एक नमूना जर्मनी के मैग्डेबर्ग शहर में एक ब्रिज बना कर दुनिया को दिखा दिया. इस ब्रिज के ऊपर गाड़ियां नहीं पानी का जहाज चलता हैं. एल्बे नदी के ऊपर बने इस पुल को देखकर ऐसा लगता है जैसे नदी के ऊपर नदी बह रही है.

इस ब्रिज को मैग्डेबर्ग वाटर ब्रिज के नाम से जाना जाता है. व्यापारिक दृष्टि से नदी के ऊपर बह रही यह नदी बेहद महत्वपूर्ण है. इसके जरिए कई बड़े-छोटे व्यावसायिक जहाजों का उपयोग पूर्वी जर्मनी और पश्चिमी जर्मनी आने-जाने के लिए किया जाता हैइस पुल का निर्माण 2003 में हुआ और यह जहाजों के चलने के लिए दुनिया का सबसे लंबा जलसेतु है.

इसकी लंबाई लगभग 1 किलोमीटर है. इस ब्रिज को बनाने के लिए मैग्डेबर्ग शहर के बाहर एल्बे नदी के विपरीत दिशाओं में बहने वाली नहरें हवेल और मिटेलैंड को जोड़ा गया. इन दोनों नहरों को एक साथ मिलाकर नदी के ऊपर से ब्रिज के द्वारा ले जाया गया. जिसे शहर से काफी दूर एल्बे नदी में मिला दिया गया. इस तरह नदी के ऊपर एक और नदी बन गई जिसमें जहाजों की आवागमन के लिए एक नया रास्ता बन गया.

इस ब्रिज को बनाने का आइडिया अब से करीब 80 साल पहले सामने आया था. इसका निर्माण कार्य सन् 1930 में शुरू किया जाना था, लेकिन दूसरे विश्वयुद्ध की वजह से ऐसा नहीं हो पाया. साल 1997 में इस ब्रिज को बनाने की प्रक्रिया फिर शुरू हुई और 2003 में इसे पूरा कर दिया गया.

ये भी पढ़ें- इस 23 साल के युवक ने 91 साल की बुजुर्ग महिला से कर ली शादी, वजह जानकर रह जाएंगे दंग

First published: 2 October 2018, 16:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी