Home » अजब गजब » Girl breast massaged with hot stone to protect them from sexual harassment in UK
 

लड़कियों की आबरू बचाने के लिए यहां गर्म पत्थर से किया जाता है ये काम

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 January 2019, 14:11 IST
(प्रतीकात्मक फोटो)

दुनियाभर में महिलाओं पर अत्याचार होते रहते हैं. महिलाओं को इन अत्याचारों से बचाने के लिए हर देश में तमाम कानून बनाए जाते हैं. यही नहीं महिलाओं का उत्पीड़न रोकने के लिए तरह-तरह की कोशिशें भी की जाती हैं. इसके लिए कोई पेपर स्प्रे साथ रखता है तो कोई पॉकेट नाइफ का इस्तेमाल. लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि ‘वीमेन सेफ्टी’ के नाम पर इस दुनिया में एक ऐसी प्रथा है जिसे ‘चेस्ट आयरनिंग’ कहते हैं. यानि महिलाओं के स्तन न बढ़ें इसके लिए गर्म पत्थर से मसलकर उन्हें जला दिया जाता है.

ये प्रथा जितनी पुरानी है इसका चलन भी उतना ही है. बता दें कि ये प्रथा कोई नई नहीं है इसके बावजूद इसका चलन जोर पकड़ रहा है. दरअसल, चेस्ट आयरनिंग नाम की इस प्रथा में महिलाओं के स्तनों को ऐसे दबाया जाता है कि उनका उभार पता न चले. यानि महिलाओं के साथ यौन अत्याचार न हो इसके लिए भी उन्हें गर्म पत्थर से उनकी शारीरिक अत्याचारों का सामना करना पड़ता है. हैरान करने बाली बात यह है कि ये प्रथा दुनिया के सबसे आधुनिक देशों में शुमार यूनाइटेड किंगडम जैसे विकसित देशों में चल रही है.

खबरों के मुताबिक, हजारों लड़कियां इस प्रथा का शिकार बनती हैं. जिसमें किसी की मां तो किसी की दादी या नानी एक बेहद गर्म पत्थर से लड़कियों के स्तन पर मसाज करती हैं. जिससे उनके टिश्यू टूट जाएं और उनकी ग्रोथ रुक जाए. हालांकि ऐसा करने के पीछे उद्देश्य यही होता है कि उनके बच्चे यौन अत्याचारों और रेप के शिकार न हों.

चिकित्सक इस प्रथा को काफी खतरनाक मानते हैं. इसका लड़कियों की हेल्थ पर शारीरिक और मानसिक तौर पर बहुत बुरा असर पड़ता है. इतना ही नहीं आगे चलकर इन महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर जैसी गंभीर बीमारियां का सामना करना पड़ता है.

ये भी पढ़ें- इस मंदिर में शाम होने के बाद रुकने वाला बन जाता है पत्थर, यहां जाने के नाम से भी थर-थर कांपते हैं लोग

First published: 30 January 2019, 14:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी