Home » अजब गजब » Gujrat leopard attack on-12 year old girl her mother saved him
 

मां की ममता से हारी तेंदुए की ताकत, बच्ची को बचाने चंडी बनकर टूट पड़ी मां और फिर...

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 April 2019, 14:11 IST

गुजरात के जूनागढ़ स्थित एक गांव में एक परिवार पर बीते रात तेंदुआने झपटा मारा. बताया जा रहा है कि ये परिवार अपने झोपड़े में सो रहा था. इसी दौरान 12 साल की बच्ची को तेंदुए ने झपटा और गले से पकड़कर भागने लगा. इसी दौरान मां ने तुरंत तेंदुए का सामना किया. तेंदुए ने हड़बड़ाहट में बच्ची को छोड़कर वहां से भाग निकला. इस घटना के बाद घायल बच्ची को सुबह अस्पताल में भर्ती कराया गया.

ये घटना गुजरात के जूनागढ़ के अंबाला गांव की है. मां अपनी बच्ची को तेंदगुए के तंगुल से बचाने के लिए अपनी जान पर खेल गई. बताया जा रहा है कि मां ने अपनी बच्ची को बताए के लिए तेंदुए के उपर कूद गई, जिससे तेंदुआ डर गया और फिर वहां जंगलों में भाग गया.

बता दें कि अंबाला गांव में यह परिवार मजदूरी करता है. परिवार में विनुभाई परमार दो बच्चों और पत्नी के साथ झोपड़े में रहते हैं. बीते कल की रात तकरीबन 11 बजे एक तेंदुआ उस झोपड़े में आ घुसा. झोपड़ी में घूसते ही उसने वहां मौजूद 12 वर्षीय मासूम हिरल का गर्दन पकड़ा और वहां से भागने लगा. इसी दौरान बच्ची की मां भानुबेन जागी और तुरंत ही उसने अपनी बच्ची का पैर पकड़ लिया और तेंदुए पर कूद पड़ी. 

किसान के नेत्रविहीन बेटे ने IAS बनकर परिवार का सपना किया साकार, बंद आंखों से मिली सफलता

मालूम हो कि इस घटना से पहले भी वलसाड में एक किसान पर तेंदुए ने हमला कर दिया था. किसान पशुओं को चराने के लिए वलसाड जंगल गया था, इसी दौरान तेंदुआ किसान पर टूट पड़ा. इसी दौरान किसान को बचाने के लिए उसका बेटा सामने आ गया. बेटे ने पिता को बचाने के लिए तेंदुए से गुत्थगुत्था किया. तेंदुए ने नाखून और दांतों से पिता को घायल कर दिया. फिर भी बेटे ने हार नहीं मानी और लंबी लड़ाई के बाद अपने पिता को उसने बचा लिया.

वैज्ञानिकों ने अजगर की मदद से ढूंढ निकाली 17 फुट लंबी मादा अजगर, जानिए कैसे हुआ ये कारनामा

First published: 8 April 2019, 14:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी