Home » अजब गजब » Hard worker fined as he was refusing to take weekly off
 

साप्ताहिक अवकाश न लेने पर लगा दिया भारी जुर्माना

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 March 2018, 17:33 IST
फाइल फोटो

कई देशों के कानून इतने सख्त होते हैं कि अगर कोई अच्छा और मेहनती व्यक्ति लगातार काम भी करता पाया जाए, तो उस पर कार्रवाई कर दी जाती है. हालांकि इस नियम के पीछे की वजह भी होती है. ऐसे ही एक ताजा मामले में फ्रांस के एक बेकरी चलाने वाले व्यक्ति पर 3000 यूरो (करीब 2 लाख 40 हजार रुपये) का जुर्माना लगाया गया.

इस फ्रेंच बेकर का नाम सेड्रिक वैव्रे है और इसकी उम्र 41 साल है. इन पर आरोप था कि 2017 की गर्मियों में उन्होंने कड़ी मेहनत करते हुए सप्ताह के सातों दिन अपनी बेकरी खोली. लगातार सात दिनों तक काम करने के चलते उन्होंने देश के लेबर रूल्स तोड़े. वैव्रे ने पर्यटकों को सामान परोसने के लिए लुसिग्नी सुर बार्स कस्बे में अपनी इकलौती बेकरी को सातों दिन खोले रखा.

हालांकि कस्बे के मेयर क्रिश्चियन ब्रैन्ले और स्थानीय लोगों ने बौलेंग्रे डु लैक के मालिक वैव्रे का समर्थन किया है. 

L'Est Eclair से बातचीत में ब्रैन्ले ने कहा, "एक पर्यटन स्थल पर ऐसा जरूरी लगता है कि हम गर्मियों के दौरान रोजाना दुकानों को खोलें. जहां पर सैलानी हों वहां पर बंद दुकानों से बुरा कुछ नहीं हो सकता."

वैसेे वैव्रे ने अभी तक अपना जुर्माना अदा नहीं किया है क्योंकि उन्हें उम्मीद है कि इसे या तो कम किया जा सकता है या फिर कम. इस संबंध में करीब 2,500 लोगों ने उनका समर्थन करने वाली याचिका पर हस्ताक्षर किए हैं.

एक समाचार चैनल को दिए गए साक्षात्कार के दौरान कस्बे के मेयर ब्रेन्ले ने कहा, "आपमें कुछ कॉमन सेंस होना चाहिए, हम एक ऐसे स्थान में हैं जहां बहुत ज्यादा प्रतिस्पर्धा नहीं है... अगर सैलानियों को कोई सेवा चाहिए तो लोगों को काम करने दीजिए."

स्थानीय विभागों द्वारा 1994 से लेकर 2000 तक बेकरियों को सप्ताह के सातों दिन खोलने से रोकने की पाबंदी संबंधी फरमान जारी किया गया था.

यूं तो इस संबंध में अपवाद हो सकते हैं और 2016 के नियम में वेव्रे की बेकरी को छूट दी गई थी, लेकिन इसके अगले साल नियमों को बरकरार नहीं रखा गया. 2015 में चार अन्य बेकरी वालों पर भी सप्ताह के सातों दिन स्टोर खुले रखने पर जुर्मान लगाया गया था.

First published: 17 March 2018, 17:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी