Home » अजब गजब » Icehotel in Sweden it is built every year and melts back into river
 

ये है दुनिया का अनोखा होटल, जिसका होता है हर साल निर्माण, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 February 2020, 10:12 IST

Icehotel in Sweden: दुनिया (World) के किसी भी होटल (Hotel) को इतना मजबूत बनाया जाता है कि भूकंप (Earthquake) के तेज झटकों में भी उसकी इमारत (Building) को कुछ न हो, लेकिन आज हम आपको एक ऐसे होटल के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे हर साल (Every Year) बनाना पड़ता है. क्योंकि ये होटल हर साल नष्ट (Destroyed)हो जाता है. अब आप सोच रहे होंगे कि भला ऐसा भी कोई होटल होगा जिसे हर साल बनाना पड़ता है. तो इसका जवाब है हां. दरअसल, स्वीडन (Sweden) में एक ऐसा ही होटल है. जिसे हर साल बनाना पड़ता है क्योंकि ये होटल हर साल नदी (River) की तेज धारा में बह जाता है.

इस होटल को आइस होटल (Ice Hotel) के नाम से जाना जाता है. बता दें कि इस आइस होटल को हर साल सर्दियों (Winters) में बनाया जाता है, लेकिन पांच महीने के बाद गर्मियों (Summer) के मौसम (Season) में ये पिघलना (Melt) शुरु हो जाता है. उसके बाद ये नदी के पानी (Water) में मिल जाता है. इस अनोखे होटल को बनाने की परंपरा साल 1989 से ही चली आ रही है. इस होटल को 31 साल हो गए हैं. इतने सालों से इस होटल को ऐसे ही बनाया जाता रहा है.


बता दें कि कि इस अनोखे होटल को टॉर्न नदी के तट पर बनाया जाता है. इसे बनाने के लिए नदी से करीब 2500 टन बर्फ निकाली जाती है और फिर अक्तूबर महीने से इस होटल का निर्माण होना शुरू हो जाता है. इसे बनाने के लिए दुनियाभर से कलाकार आते हैं, जो अपनी कलाकारी दिखाते हैं. जब ये होटल बनकर तैयार होता है तो इसकी खूबसूरती देखते ही बनती है. हर साल इस होटल में 35 कमरे बनाए जाते हैं. इन कमरों में ठहरने के लिए दुनियाभर से पर्यटक यहां पहुंचते हैं. कमरों के अंदर का तापमान करीब माइनस पांच डिग्री सेल्सियस रहता है. बताया जाता है कि हर साल करीब 50 हजार पर्यटक इस होटल में ठहरने के लिए आते हैं.

इस होटक का निर्माण कार्य हर साल अक्टूबर महीने से होता है उसके बाद मई के महीने में ये होटल पिघलना शुरु हो जाता है. क्योंकि मई में यहां तापमान बढ़ना शुरु हो जाता है और जून आते आते ये होटल पूरी तरह से पिघल जाता है उसके बाद ये नदी के पानी में मिल जाता है. बता दें कि बेतहाशा खूबसूरत इस होटल में एक रात रुकने का किराया 17 हजार रुपये से शुरु होता है और एक लाख रुपये तक चुकाना होता है.

बता दें कि ये होटल पूरी तरह से इको फ्रेंडली है, यानी पर्यावरण के अनुकूल है. यहां सिर्फ सौर ऊर्जा से चलने वाले उपकरणों को ही लगाया गया है. इस होटल की खास बात ये है कि यहां एक आइस बार भी है.

इतना ही नहीं, यहां पर पर्यटकों के पीने के लिए बर्फ के ही गिलास भी बनाए जाते हैं. होटल के अंदर इस तरह के साउंड इफेक्ट्स लगाए गए हैं कि लगता है कि आप किसी जंगल में हैं. वहीं, बच्चों के लिए यहां क्रिएटिव जोन भी बनाया गया है.

ये है पृथ्वी का सबसे खूबसूरत स्थान, जहां जिंदा नहीं रह सकता इंसान

यहां मिले 46,000 साल पुराने पक्षी के अवशेष, देखकर वैज्ञानिक भी हो गए हैरान

ऐसा क्या है दुनिया की सबसे बड़ी 'गुफा मछली' में, जिसकी खूबी PM मोदी ने 'मन की बात' में बताई

First published: 24 February 2020, 10:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी