Home » अजब गजब » If the train is late for even a second, the officers have asked for forgiveness from the passengers
 

यहां एक सेकंड भी ट्रेन लेट हुई तो अफसर मांगते हैं यात्रियों से माफी

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 January 2021, 23:26 IST

हमारे देश में ट्रेन का लेट होना आम बात मानी जाती हैैलेकिन जापान में ऐसा बिल्कुल नहीं हैजापान की ट्रेनों के समय को लेकर कई बातें बताई जाती हैंकहा जाता है कि जापान के लोग ट्रेनों के आने जाने से अपनी घड़ियों का समय मिलाते हैंहालांकि जापान में भी कई बार तकनीकी गड़बड़ी के चलते ट्रेन लेट हो जाती हैं.

जो ना तो घंटों में होती है और ना ही मिनटोंबल्कि कुछ सेकंड में ही होता हैबताया जाता है कि जापान की बुलेट ट्रेन शिन्कासेन का रिकॉर्ड है कि वह कभी 36 सेकंड से ज्यादा लेट नहीं हुईट्रेनों के सही समय पर चलने के पीछे रेलवे की तकनीकी और स्टाफ की काम के प्रति प्रतिबद्धता बताई जाती है.


ट्रेन के लेट होने पर मिलता है प्रमाणपत्र

जापान के लोग समय के बहुत पाबंद होते हैंहर डिपार्टमेंट में एक मिनट की देरी को भी गंभीरता से लिया जाता हैचाहे वो सरकारी हो या प्राइवेटकभी ऐसा भी होता है कि कोई ट्रेन कुछ सेकंड लेट हो जाती हैतो अगले स्टेशन पर उनकी दूसरी ट्रेन छूट जाती हैइसलिए वे और ज्यादा लेट हो जाते हैंइसके लिए जापान रेलवे यात्रियों को सर्टिफिकेट देता है.

यात्रियों को सर्टिफिकेट देने के बारे में www.japanallover.com वेबसाइट में डिले सर्टिफिकेट के बारे पूरी जानकारी दी गई हैबता दें कि जब ट्रेन लेट होती है तो स्टेशन पर रेलवे का स्टाफ खड़ा हो जाता है और यात्रियों को डिले सर्टिफिकेट देता हैजिसे यात्री अपने दफ्तर में दिखाते हैं तो उन पर देरी से आने पर कोई कार्रवाई नहीं होती.

यात्रियों से अफसर मांगते हैं माफी

ट्रेन के देरी होने पर हमारे देश में रेलवे के अधिकारी भले ही सफाई देते होंलेकिन जापान के रेलवे के अधिकारी ट्रेन के लेट होने पर सार्वजनिक रूप से माफी मांगते हैंद गार्जियन की खबर के मुताबिक पिछले साल नवंबर में टोक्यो और राजधानी के उत्तरी इलाके को आपस में जोड़ने वाली सुकुबा एक्सप्रेस लाइन पर एक ट्रेन 9:44:40 के बजाए 9:44:20 बजे खुल गई.

इस देश के राष्ट्रपति की सुरक्षा करते हैं बाज और उल्लू, परिंदा भी पर नहीं मार सकता आसमान में

ट्रेन के मात्र 20 सेकंड पहले चलने जाने पर कुछ यात्रियों की ट्रेन छूट गई वहीं अगले स्टेशन पर कुछ यात्रियों को ट्रेन का इंतजार करना पड़ाइस घटना पर रेल अधिकारियों ने अपनी वेबसाइट पर माफी मांगीसुकुबा एक्‍सप्रेस कंपनी ने कहा, ‘यात्रियों को हमारी वजह से परेशानी का सामना करना पड़ा इसके लिए हमें खेद है.’

22,000 रुपये है इस डेनिम चड्ढी की कीमत, इसकी खूबियां जान खरीदने से नहीं करेंगे इंकार

First published: 30 January 2021, 23:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी