Home » अजब गजब » Indai’s Smallest Baby Born In Hyderabad Hospital weight is 375 Gram
 

भारत में पैदा हुई सबसे कम वजन की बेटी, आकार जानकर उड़ जाएंगे होश

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 July 2018, 16:45 IST

हैदराबाद के एक अस्पताल में भारत की सबसे छोटी बच्ची ने जन्म लिया है. बच्ची का जन्म हैदराबाद के रेनबो चिल्ड्रेन अस्पताल में हुआ. खबरों के मुताबिक, जन्म के वक्त बच्ची का वजन मात्र 375 ग्राम था. वहीं बच्ची की लंबाई 20 सेंटीमीटर थी. बच्ची इतनी छोटी है कि किसी की भी हथेली में समा सकती है.

इतने कम वजन की बच्ची पैदा होने से डॉक्टर भी हैरान हैं. क्योंकि सबसे कम वजन होने के बावजूद बच्ची जीवित है. बता दें कि ये भारत की सबसे कम वजन की बच्ची है. बताया जा रहा है कि इस बच्ची का जन्म 4 महीने पहले हुआ था. बच्ची के मा-बाप ने बच्ची का नाम रिद्धिमा रखा है. वहीं परिवार वाले बच्ची को प्यार से चेरी कहते हैं.

मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक, जिन बच्चों का जन्म 500 ग्राम से कम होता है, उनके जीवित रहने की संभावना 50 फीसदी से भी कम होती है. ऐसे में केवल 375 ग्राम वजन के साथ जन्मी चेरी का जीवित रहना किसी चमत्कार से कम नहीं माना जा रहा है.

बच्ची के पिता नेे एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि, चेरी के जन्म से पहले उसकी मां निकिता के 4 बार अबॉर्शन हो चुके थे, जिसको देखते हुए उनके एक दोस्त ने हैदराबाद में निकिता का इलाज कराने की सलाह दी थी.

डॉक्टर की मानें तो बच्ची के बचने की संभावना बहुत कम थी, क्योंकि गर्भ में पल रही चेरी और उसकी मां के बीच ब्लड फ्लो ठीक तरह से नहीं हो रहा था. बता दें कि, गर्भावस्था के दौरान प्लेसेंटा में ब्लड फ्लो न होने के कारण गर्भ में पल रहे बच्चे को सही मात्रा में ऑक्सीजन और न्यूट्रिएंट्स नहीं मिल पाते हैंजिससे गर्भ में बच्चे की जान का खतरा बना रहता है. सात ही बच्चे के अंगों का विकास भी नहीं हो पाता.

बच्ची के जन्म के बाद लगभग 15 हफ्तों तक उसे वेंटीलेटर पर रखा गया था. जन्म के 38 दिनों के बाद चेरी का वजन 375 ग्राम से बढ़कर 500 ग्राम हुआ था. 128 दिन हॉस्पिटल में रहने के बाद आखिरकार बच्ची को डिस्चार्ज कर दिया गया. खबरों के मुताबिक, बच्ची का वजन अब 2 किलो हो चुका है और वह बिल्कुल स्वस्थ है.

ये भी पढ़ें- ये हैं दुनिया के अजीबो-गरीब घर, कहीं पहाड़ के नीचे तो कहीं पानी में रहते हैं लोग

First published: 21 July 2018, 16:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी