Home » अजब गजब » Japanese Nurse Ayumi Kuboki Killing 20 Patients in Oguchi Hospital to control time of their Death
 

जापान की इस नर्स ने इस छोटी बात से नाराज होकर 20 मरीजों को जान से मार डाला

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 July 2018, 16:19 IST

किसी मरीज को नई जिंदगी देने में जितना हाथ डॉक्टर्स का होता है, उतनी ही नर्स का भी होता है. मरीजों के सेवा में नर्स दिन-रात एक कर देती हैं. उन्हें कई घंटों तक लगातार काम करना पड़ता है.लेकिन वो उफ तक नहीं करतीं, लेकिन जापान की एक नर्स ने दुनियाभर में नर्स के पेशे पर बदनाम का काला दाग लगा दिया.

जहां एक अस्पताल की नर्स ने 20 मरीजों की जहर देकर हत्या कर दी. अयुमो कोबुकी नाम की ये नर्स टोक्यो से 32 किलोमीटर दूर ओगुची अस्पताल में तैनात है. कोबुकी पर आरोप है कि उसने जहर देकर 20 मरीजों की हत्या कर दीकोबुती पर आरोप है कि 2016 के दौरान उसने एक बुजुर्ग मरीजों की ड्रिप में एंटीसेप्ट‍िक सल्यूशन को इंजेक्ट कर दिया जिससे उसकी मौत हो गई. वहीं जापानी पुलिस के मुताबिक कोबुकी ने अपना गुनाह कबूल कर लिया.

कोबुकी के मुताबिक वह मरीजों को इसलिए जहर देती थी कि उनकी मौत दूसरी नर्सों की श‍िफ्ट में हो. जिससे वो मरीज की मौत पर उठने वाले सवालों के जवाब देने से बच सकेइस बात का खुलासा उस वक्त हुआ जब पुलिस ने 88 साल के एक मरीज नोबुओ यामाकी की सितंबर 2016 में मौत होने के बाद जांच शुरु की.

नोबुओ की मौत के बाद उनकी ड्रिप में बबूले देखे गए. ड्रिप में बबूले होने का मतलब ड्रिप बैग में छेड़छाड़ से था. जब जांच हुई तो डॉक्टरों को नोबुओ के खून में काफी मात्रा में एंटीसेप्ट‍िक सल्यूशन मिला. जिससे पता चला कि उसे जहर दिया गया था.

वहीं 88 साल के एक दूसरे मरीज की भी ऑटोप्सी की गई. उस मरीज के खून में भी वही एंटीसेप्ट‍िक सल्यूशन पाया गया. इसके बाद पुलिस ने जांच शुरू की. उसके बाद पुलिस को 2 और मरीजों के शरीर में इस एंटीसेप्ट‍िक सल्यूशन के अंश मिले.

जांच के दौरान पुलिस को नर्सों के कॉमन रूम से 10 और बिना इस्तेमाल किए गए ड्रिप बैग मिले. जिसमें ये सल्यूशन डाला गया था. जब सभी नर्सों की यूनिफॉर्म की जांच हुई तो सिर्फ कोबुकी के कपड़ों में उस सल्यूशन के अंश मिले.

उसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया. जिसमें उसने 20 मरीजों की हत्या करने की बात कबूल कर ली. इस दौरान उसने बताया कि उसने सिर्फ बुजुर्ग और काफी गंभीर मरीजों की ही हत्या की. लेकिन पुलिस के मुताबिक उसकी इस बात पर शक होता है क्योंकि उस दौरान मारे गए की मरीज गंभीर रूप से बीमार नहीं थे.

बता दें कि कोबुकी ने साल 2008 में नर्स की डिग्री हासिल की थी. उसके बाद उसने अस्पतालों में काम करना शुरु किया. जहां उसने घटना को अंजाम दिया उस अस्पताल में वो मई 2015 में आई थी. कोबुकी के इस अस्पताल में आने के बाद कई ऐसी घटनाएं हुईं जिन पर यकीन नहीं किया जा सकता. जब उसने अस्पताल छोड़ दिया तो सभी अजीब घटनाएं होना बंद हो गईं.

ये भी पढ़ें- Facebook Live कर युवक ने दिखाया अपनी मौत का मंजर, दुहाई देते रह गए दोस्त…

First published: 12 July 2018, 16:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी