Home » अजब गजब » Kalavantin Durg India’s most dangerous fort Prabalgad fort in Maharashtra
 

ये है भारत का सबसे खतरना का किला, शाम होती है मंडराने लगता है मौत का साया

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 May 2019, 13:21 IST

हमारे देश में पुराने जमाने के कई राजाओं के किले आज भी मौजूद है. जो अपनी खूबसूरती के लिए आज भी जाने जाते हैं, लेकिन इन किलों में से कुछ बेहद खतरनाक भी हैं. इन्हीं में से एक है प्रबलगढ़ का किला. जो महाराष्ट्र के माथेरान और पनवेल के बीच स्थित है. इस किले को भारत के सबसे खतरनाक किलों में गिना जाता है. इस किले को कलावंती किले के नाम से भी जाना जाता है.

दरअसल, प्रबलगढ़ का किला 2300 फीट ऊंची खड़ी पहाड़ी पर बना हुआ है. इस किले पर बहुत कम लोग आते हैं. लेकिन सूरज ढलने से पहले ही लौट जाते हैं. इसकी एक वजह ये भी मानी जाती है कि खड़ी चढ़ाई होने की वजह से इंसान यहां लंबे समय तक टिक नहीं पाता. यही नहीं यहां ना तो बिजली है और ना ही पानी. सूरज ढलते ही यहां मीलों दूर तक सन्नाटा पसर जाता है.

इस किले तक पहुंचने के लिए चट्टानों को काटकर सीढ़ियां बनाई गई हैं, लेकिन इन सीढ़ियों पर ना तो रस्सियां है और ना ही कोई रेलिंग. इसीलिए इस सीढ़ियों पर चढ़ने में लोगों की हालत खराब हो जाती है. जरा सी चूक की वजह से इंसान साधा 2300 फीट नीचे खाई में गिरता है.

बताया जाता है कि इस किले से गिरकर कई लोगों की मौत भी हो चुकी है. बताया जाता है कि इस किले का नाम पहले मुरंजन किला था, लेकिन छत्रपति शिवाजी महाराज के राज में इसका नाम बदल दिया गया. शिवाजी महाराज ने रानी कलावंती के नाम पर ही इस किले का नाम कलावंती भी रखा था.

इस किले से आसानी से आप चंदेरी, माथेरान, करनाल और इर्शल किले का नजारा देख सकते हैं. यही नहीं मुंबई का कुछ हिस्सा भी इस किले से नजर आता है. अक्तूबर से मई महीने तक यहां लोग खूब घूमने आते हैं, लेकिन बारिश के दिनों में यहां चढ़ना बेहद खतरनाक हो जाता है फिर यहां लोगों का आना भी बंद हो जाता है.

जब सांप का हुआ जंगली छिपकली से सामना, वीडियो में देखें फिर हुआ क्या

लगातार सिकुड़ता जा रहा है चंद्रमा, वैज्ञानिकों ने किए ऐसे खुलासे जानकर रह जाएंगे दंग

First published: 16 May 2019, 13:12 IST
 
अगली कहानी