Home » अजब गजब » Karni Mata Mandir: More than 25 thousands rats live in Mata Karni Temple in Rajasthan
 

इस मंदिर में रहते हैं 25 हजार से ज्यादा चूहे, इससे जुड़े हैं हजारों रहस्य

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 August 2021, 7:59 IST
(Social Media)

हमारे देश में लाखों मंदिर हैं जिनमें से कुछ मंदिरों को चमत्कारी माना जाता है इसीलिए हर साल हजारों की संख्या में भक्त वहां पूजा अर्चना करने पहुंचते हैं और भगवान से कामना करते हैं. इनमें से भी कुछ मंदिर तमाम रहस्यों से भरे हुए हैं. आज हम आपको एक ऐसे ही रहस्यमयी मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं. जो राजस्थान में स्थित है. इस मंदिर का नाम है माता करणी मंदिर. ऐसी मान्यता है कि इस मंदिर में कई रहस्य छिपे हुए हैं, जिन्हें आज तक कोई नहीं जान पाया है. माता करणी का ये रहस्यमयी मंदिर राजस्थान के बीकानेर शहर से करीब 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. इस मंदिर में 25 हजार से ज्यादा चूहे रहते हैं जो इस मंदिर की रक्षा भी करते हैं जो इस मंदिर का सबसे बड़ा रहस्य भी माना जाता है.

ज्यादातर लोग और श्रद्धालु ये जानने की कोशिश करते हैं कि आखिर इस मंदिर में इतने सारे चूहे क्यों रहते हैं. लेकिन ये रहस्य आज भी सुलक्ष नहीं पाया है. मंदिर में चूहों की इतनी बड़ी तादाद क्यों है? इस रहस्य से विज्ञान भी अब तक पर्दा नहीं उठा पाया है. बता दें कि माता करणी के इस मंदिर में कई सारे चूहों को विभिन्न तरह के पकवानों का भोग लगाने की मान्यता भी है. चूहों को भोग लगाने के बाद इन पकवानों को प्रसाद के रूप में भक्तजनों के बीच वितरित कर दिया जाता है. ऐसी मान्यता है कि माता के मंदिर में जो भी आता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं. इसीलिए हर साल हजारों की संख्या में भक्त अपनी मनोकामना लेकर इस मंदिर में पहुंचते हैं और जब उनकी मनोकामना पूरी हो जाती है तो वह वापस इस मंदिर में दर्शन करने के लिए आते हैं.


बता दें कि इस मंदिर का निर्माण बीकानेर रियासत के महाराजा गंगा सिंह ने करवाया था. कहा जाता है कि माता करणी मां दुर्गा की साक्षात अवतार हैं. इतिहास की किताबों में माता करणी का जन्म 1387 ईसवी बताया गया है. उनका जन्म रिघुबाई के नाम से एक शाही परिवार में हुआ था. विवाह के बाद उनका सांसारिक मोह माया से लगाव टूट गया और वे एक तपस्वी का जीवन जीने लगीं. उस दौरान आस पास के गांवों में उनकी धार्मिक और चमत्कारी शक्तियों की चर्चा होने लगी. इसी वजह से दूर-दूर से कई लोग माता के दर्शन के लिए आने लगे. कई इतिहासकारों का ये तक कहना है कि माता करणी करीब 151 साल तक जिंदा रहीं. तब से लेकर आज तक माता के कई भक्त उनकी श्रद्धापूर्वक पूजा करते हैं.

इस मंदिर में जाने के नाम से ही घबराते हैं लोग, जाने वालों की हो जाती है हालत खराब

करणी माता के मंदिर में करीब 25 हजार से भी अधिक चूहे रहते हैं. ऐसा माना जाता है कि ये चूहे माता करणी के वंशज हैं. शाम को मंदिर में जब माता की संध्या आरती होती है, उस दौरान सभी चूहे अपने बिलों से बाहर आ जाते हैं. बड़ी संख्या में चूहे होने की वजह से इस मंदिर को मूषक मंदिर भी कहा जाता है. सबसे अनोखी बात ये है कि इस मंदिर में 25 हजार से भी ज्यादा चूहे होने के बाद भी किसी भी प्रकार की दुर्गंध नहीं आती. यही नहीं इस मंदिर में रहने वाले चूहों से आज तक कोई भी बीमारी भी नहीं फैली.

चूहे का शिकार करने की कोशिश कर रही थी बिल्ली, वीडियो में देखें शिकारी ने कैसे दी पटखनी

First published: 23 August 2021, 7:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी