Home » अजब गजब » King of Cocaine Pablo Escobar Interesting facts
 

ये था दुनिया का सबसे बड़ा ड्रग्स माफिया, जिसके पास था पैसों का अकूत भंडार, मारने के लिए खर्च हुए थे अरबों रूपये

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 September 2020, 10:54 IST

दुनिया में अवैध ड्रग्स का कारोबार कितना बड़ा है और उसके पीछे कौन-कौन लोग हैं, इसके बारे में सिर्फ अंदाजा ही लगाया जाता है. ऐसे कई लोग हैं जिन पर दुनिया भर में ड्रग्स का कारोबार चलाने का आरोप है. ऐसे में हम आपको दुनिया के सबसे बड़े ड्रग माफिया के बारे में बता रहे हैं, जिसने अपने बिजनेस में दिक्कत देने वाले हजारों लोगों को मौत के घाट उतार दिया था. कहा जाता है कि उसने ड्रग्स के धंधे से इतना पैसा कमा लिया था कि उसने पूरी कमाई का 10 फीसदी हिस्से को या तो चूहे कुतर गए या फिर उन्हें दीमक लग गई. हम बात कर रहे हैं, पाब्लो एमिलियो एस्कोबार गैविरिया की, जिसे पाब्लो एस्कोबार या किंग ऑफ कोकेन के नाम से भी जाना जाता है.

पाब्लो एस्कोबार का जन्म 1949 में कोलंबिया के राइनग्रो में हुआ था. एस्कोबार के पिता एक किसान थे, और उनकी माँ एक स्कूल की शिक्षिका थीं. नशीली दवाओं के व्यापार में आने से पहले, एस्कोबार चोरी की कारों के व्यवसाय में भी शामिल था. साल 1976 में 27 वर्षीय एस्कोबार ने एक मारिया विक्टोरिया हेनाओ वेलेजो से शादी की थी, उस दौरान मारिया की उम्र 15 साल की थी.एस्कोबार के ड्रग्स के धंधे में अकूत पैसा कमाया था. एक समय संयुक्त राज्य अमेरिका में अवैध तरीके से जो ड्रग्स आती थी, उसके करीब 80 फीसदी बाजार पर एस्कोबार के मेडेलिन कार्टेल का था. इतने बड़े अवैध धंधे के कारण एस्कोबार के काफी दुश्मन भी थे. कहा जाता है कि उसे मरवाने के लिए उसने दुश्मनों ने करीब 16 अरब रूपये खर्च कर डाले थे लेकिन उन्हें कोई सफलता नहीं मिली थी.


पैसों में लग गई थी दीमक

 

पाब्लो एस्कोबार ने प्यर्टो ट्रायंफो में अपनी असाधारण संपत्ति से एक निजी चिड़ियाघर भी बनाया, जो हिप्पो, जिराफ, हाथियों और अन्य जानवरों से भरा. कहा जाता है कि आज भी हिप्पोस इस इलाके चिड़िया घर में घूमते हैं. एस्कोबार के कारोबार में जिसने भी टांग अड़ाई उसने उसकी हत्या करवा दी. बताया जाता है कि उसने करीब 4,000 लोगों की हत्या करवाई थी जिसमें करीब 200 न्यायाधीश और 1,000 पुलिस, पत्रकार और सरकारी अधिकारी शामिल थे.

पाब्लो एस्कोबार का परिवार कभी सामने नहीं आया था, वो ज्यादातर छुप कर ही रहते थे. छुपा हुआ था. कही मीडिया रिपोर्ट में दावा किया जाता है कि एक बार पाब्लो की बेटी, मैनुला, बीमार हो गई थी तो उसे पूरी रात गर्म रखने के लिए एस्कोबार ने लगभग दो मिलियन डॉलरों को जलाया था. पाब्लो एस्कोबार के पास इतना पैसा था कि उसने अपनी नकदी को भेजने के लिए एक लीयर जेट खरीदा था.

एस्कोबार ने पास इतना कैश था कि वो हर महीने करीब 2,500 डॉलर रबर बैंड पर खर्च करता था, जिससे वो अपने पैसों को बांध सके. साल 1987 में फोबर्स की दुनिया के सबसे अमीर लोगों की सूची में एस्कोबार ने अपनी जगह बनाई थी और साल 1989 तक आते आते वो इसमें सातवें नंबर पर पहुंच गया था. एक आकलन के अनुसार एस्कोबार की कमाई अनुमानित 30 बिलियन डॉलर थी.

तस्करी के लिए रखी थी पन्नडुब्बी 

पाब्लो एस्कोबार विमान के टायरों में कोकीन को छुपाकर एक देश से दूसरे देश भेजता था. एस्कोबार इसके लिए प्लेन के पायलटों को काफी मोटी रकम देता था. एस्कोबार का व्यवसाय इतना बड़ा और इतना विस्तृत था कि विमानों, हेलीकाप्टरों, कारों, ट्रकों और नावों के अलावा, उसने अपनी कोकीन को संयुक्त राज्य अमेरिका में ले जाने के लिए दो पनडुब्बियां भी खरीदी हुई थीं. एस्कोबार ने एक बार संयुक्त राज्य अमेरिका में एक बार 51,000 पाउंड कोकीन का एक शिपमेंट भेजा था, जो अधिकारियों के पकड़ में नहीं आया था. अमेरिकी अधिकारियों के अनुसार, एस्कोबार का धंधा जब अपने चरम पर था, तब वो हर दिन 15 टन कोकीन की तस्करी करता है. 1980 के दशक में कोलंबिया के अधिकारियों ने एस्कोबार के कुछ विशाल बेड़े को जब्त कर लिया, जिसमें 142 विमान, 20 हेलीकॉप्टर, 32 नौका और 141 घर और कार्यालय शामिल थे.

पाब्लो एस्कोबार अमेरिका की जेलों में जाने से डरता था. वो चाहता था कि उसकी जिंदगी के आखिरी दिन अमेरिका की जेलों में ना बीते और इसके लिए उसने एक बार कोलंबिया के पूरे कर्ज को उतारने की पेशकश की थी और बदले में प्रत्यर्पण के कानून में बदलाव की मांग की थी.पाब्लो एस्कोबार को 44 साल की उम्र में गोली मार दी गई थी. कुछ लोग मानते हैं कि उसने खुद को गोली मार ली थी क्योंकि वो किसी भी कीमत पर अमेरिकी की जेल में नहीं जाता चाहता था.

अमेरिका के इन स्कूलों में पढ़ने के लिए हर दिन दूसरे देश से आते हैं बच्चे, अपने साथ रखते हैं पासपोर्ट

First published: 10 September 2020, 9:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी