Home » अजब गजब » Know about the world’s most mysterious book voynich manuscript language everyone unable to decode it
 

ये है दुनिया की सबसे रहस्यमयी किताब, जिसे पढ़ने वाले के छूट गए पसीने

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 August 2019, 13:12 IST

हमारी पृथ्वी लाखों-करोड़ों रहस्यों से भरी पड़ी है. लेकिन इन रहस्यों में ज्यादातर को इंसान आजतक नहीं सुलझा पाया है और ये आज भी रहस्य बने हुए हैं. इन्हीं में से एक ऐसा रहस्य है जिसे सुलझाने में अच्छे-अच्छों का पसीना छूट गया लेकिन इसे कोई नहीं सुलझा पाया. दरअसल, ये एक किताब है. जिसमें 240 पन्ने हैं और ये किताब ऐसी है जिसे आजतक कोई नहीं पढ़ पाया.

इतिहासकारों का मानना है कि, यह रहस्यमयी किताब 600 साल पुरानी है. इसके बारे में कार्बन डेटिंग से पता चला है कि इसे 15वीं सदी में लिखा गया. जो हाथ से लिखी गई है, लेकिन इस किताब में क्या लिखा गया है. इसके बारे में कोई नहीं जान पाया. यही नहीं ये किताब किस भाषा में लिखी गई है इसके बारे में भी आजतक पता नहीं चल सका.

इस किताब के रहस्यों को आजतक कोई नहीं सुलझा पाया, अब इस किताब को वॉयनिक मैनुस्क्रिप्ट नाम दिया गया है. बता दें कि इस किताब में इंसानों से लेकर पेड़-पौधों तक के कई चित्र बनाए गए हैं, लेकिन इसमें सबसे हैरानी की बात ये है कि इस किताब में कुछ ऐसे पेड़-पौधों के चित्र बनाए गए हैं, जो धरती पर मौजूद किसी भी पेड़-पौधे से मेल नहीं खाते.

इस किताब को 'वॉयनिक मैनुस्क्रिप्ट' नाम इटली के एक बुक डीलर विलफ्रीड वॉयनिक के नाम पर दिया गया है. बता दें कि उन्होंने ही इस रहस्यमयी किताब को साल 1912 में कहीं से खरीदा थाबताया जाता है कि इस रहस्यमयी किताब में कई पन्ने हुआ करते थे, लेकिन समय के साथ इसके कई पन्ने कट-पट गए. हालांकि अभी भी इस किताब में 240 पन्ने शेष बचे हैं. इस किताब के बारे में कुछ खास तो पता नहीं चल पाया है, लेकिन इतना जरूर पता चला है कि किताब में लिखे गए कुछ शब्द लैटिन और जर्मन भाषा के हैं.

वहीं कई लोगों का ये भी मानना है कि इस किताब को इस तरह लिखा गया है कि इसके रहस्य को छिपाया जा सके. लेकिन इस किताब के रहस्य को कोई नही जान पाया और इसका रहस्य किताब लिखने वाले के साथ ही समाप्त हो गया.

एग्जाम देने के लिए सोकर नहीं उठा पोता तो दादी ने बुला ली पुलिस और फिर...

First published: 14 August 2019, 13:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी