Home » अजब गजब » Know here the mystery of Dhara Devi Temple in Uttarakhand
 

ये है दुनिया का सबसे अनोखा मंदिर, जहां माता की मूर्ति दिन में कई बार बदलती है रंग

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 May 2020, 14:10 IST

Mysterious Temple of Dhara Devi: हमारे देश में हजारों मंदिर (Temple) स्थित है. इनमें से तमाम मंदिर प्राचीन काल (ancient time) के हैं और उनमें से कई मंदिर रहस्यमयी मंदिर (Mysterious Temple) माने जाते हैं. आज हम आपको एक ऐसे ही मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे रहस्यमयी माना जाता है. ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर की मूर्ति दिन में कई बार रंग बदलती है. इस मंदिर का नाम है धारा देवी मंदिर (Dhara Devi Temple).

दरअसल, उत्तराखंड (Utterakhand) के श्रीनगर (Srinagar) से करीब 14 किलोमीटर दूर स्थित ये मंदिर हर दिन किसी चमत्कार का गवाह बनता है. इस चमत्कार को देखकर लोग हैरान हो जाते हैं. दरअसल, इस मंदिर में मौजूद माता की मूर्ति दिन में तीन बार अपना रूप बदलती है. मूर्ति सुबह में एक कन्या की तरह दिखाई देती है और दोपहर में युवती के रूप में बदल जाती है. शाम होते ही इस मंदिर में मौजूद मूर्ति किसी बूढ़ी महिला के रूप में बदल जाती है.


सिर्फ एक रात में लिख दी गई थी ये शैतानी किताब, आज तक नहीं सुलझा इसका रहस्य

यह नजारा वाकई हैरान कर देने वाला होता है. एक पौराणिक कथाओं के मुताबिक, एक बार भीषण बाढ़ में ये मंदिर बह गया था. साथ ही साथ उसमें मौजूद माता की मूर्ति भी बह गई और वह धारो गांव के पास एक चट्टान से टकराकर रुक गई. कहते हैं कि उस मूर्ति से एक ईश्वरीय आवाज निकली, जिसने गांव वालों को उस जगह पर मूर्ति स्थापित करने का निर्देश दिया. इसके बाद गांव वालों ने मिलकर वहां माता का मंदिर बना दिया. पुजारियों की मानें तो मंदिर में मां धारी की प्रतिमा द्वापर युग से ही स्थापित है.

बेंगलुरु में दोपहर में सुनाई दी रहस्यमयी तेज आवाज, दहशत में आए लोग, वायुसेना से किया संपर्क

मध्य प्रदेश: शादी के बाद दुल्हन का कोरोना टेस्ट आया पॉजिटिव, दूल्हा समेत परिवार के 32 लोग क्वारंटीन

ऐसा माना जाता है कि मां धारी के मंदिर को साल 2013 में तोड़ दिया गया था और उनकी मूर्ति को उनके मूल स्थान से हटा दिया गया था, इसी वजह से उस साल उत्तराखंड में भयानक बाढ़ आई थी, जिसमें हजारों लोग मारे गए थे. माना जाता है कि धारा देवी की प्रतिमा को 16 जून 2013 की शाम को हटाया गया था और उसके कुछ ही घंटों बाद राज्य में आपदा आई थी. बाद में उसी जगह पर फिर से मंदिर का निर्माण कराया गया. 

Video: मेंढक और तेंदुए की यह लड़ाई देख दांतों तले दबा लेंगे उंगली, जान पर बन आई तो..

 

First published: 21 May 2020, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी