Home » अजब गजब » Know what happened when faithful dog waited for the owners return for a month
 

एक महीने तक मालिकों के लौटने का इंतजार करता रहा यह वफादार कुत्ता, जानिए फिर क्या हुआ

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:46 IST
(फेसबुक)

कुत्तों की वफादारी के तमाम किस्से आपने सुने होंगे. लेकिन एक ताजा घटना में कुत्ते के साथ घर का काफी सामान छोड़कर गए मालिक का इंतजार वो एक महीने तक उस सामान के साथ ही करता रहा. कोई मालिक द्वारा छोड़ा गया सामान ले न जाए इसलिए यह कुत्ता उस सामान को छोड़कर कहीं जाता भी नहीं था.

यह घटना है अमेरिका के मिशिगन स्थित डेट्रॉयट की. यहां का एक परिवार कुछ वक्त पहले अपना घर छोड़कर कहीं चला गया. घर के लोगों ने अपना गैरजरूरी सामान मसलन एक गद्दा, कुछ डिब्बे आदि घर के सामने सड़क किनारे रख दिया.

पड़ोसियों द्वारा एक चैनल को बताया गया कि वे अपने कुत्ते (जिसका नाम बू) को इसकी निगरानी करने और जल्द वापस आकर उसे लेने की बात कहकर चले गए. कुत्ते ने मालिकों की बात मानते हुए सामान की सुरक्षा की जिम्मेदारी उठाई और वहां पड़े गद्दे के ऊपर डट गया.

लेकिन कुछ घंटों का इंतजार दिन में बदला और फिर हफ्ते में लेकिन मालिक वापस नहीं लौटे और वफादार कुत्ता सामान की सुरक्षा में तैनात रहने के साथ ही इसे छोड़कर कहीं जाने को तैयार नहीं था.

कोई भी व्यक्ति अगर सामान के आसपास आता तो यह कुत्ता उनपर भौंकता और उन्हें सामान से दूर रहने की चेतावनी देता. दिन-रात यह कुत्ता उसी जगह रहता.

फेसबुक पर 'बू' की तस्वीर शेयर करने वाली लिज मैरी कहती हैं कि इस तस्वीर ने वाकई मेरा दिल तोड़ दिया और मेरी आंखों में आंसू आ गए. हफ्ते भर से ज्यादा का वक्त बीतने के बाद भी जब वह कुत्ता परेशान-बेचैन और उदास वहीं बैठा दिखा तो पड़ोस में रहने वाले व्यक्ति ने डेट्रॉयड यूथ एंड डॉग रेस्क्यू टीम के माइक डीजल को फोन कर उन्हें इसकी जानकारी दी.

सूचना मिलने के बाद माइक वहां पहुंचे और कुत्ते को गद्दे पर बैठे देखकर काफी दुखी हुए. माइक के मुताबिक उस कुत्ते को वहां से हटाना आसान काम नहीं था. उसके मालिक द्वारा बाहर रखे गए बेकार सामान में से उसे घर के लोगों की महक आती थी इसलिए वो उसे छोड़कर जाने को तैयार नहीं था.

माइक डीजल द्वारा उसे पुचकारने और दोस्ताना बनाने की काफी कोशिश की गईं लेकिन वो नहीं माना. बू के लिए माइक एक अंजान व्यक्ति था और बू अपनी सामान्य प्रतिक्रिया स्वरूप उनके ऊपर भौंकने लगा.

हालांकि माइक ने हार नहीं मानी और इसकेे बाद उसे कुछ खाने के लिए दिया. भौंकते-भौंकते बू ने कुछ देर बाद खाना उठाया और खाया. इसके बाद माइक दो दिनों में कई बार उसके पास पहुंचे और उसे कुछ खाना देने के साथ उसे पुचकारा और विश्वास पैदा करने की कोशिश की. 

बाद में मैकडोनाल्ड से लाए गए नाश्ते को खाने के बाद बू और माइक के बीच एक विश्वास पैदा हुआ और बू ने माइक की कार में उनके साथ घंटे भर का वक्त बिताया. 

माइक कहते हैं चूंकि बू का दिल और विश्वास टूटा था इसलिए उसे दोबारा किसी पर आसानी से विश्वास नहीं हो पा रहा था. मैंने उसे समझाया कि यह परेशानी कुछ वक्त के लिए है और आगे कोई उसका दिल नहीं तोड़ेगा.

इसके बाद बू उनके साथ रहने के लिए तैयार हो गया और माइक उसे पशु चिकित्सालय ले गए जहां उसकी दूसरे चरण की हार्टवॉर्म बीमारी का इलाज शुरू किया गया. कहा जा रहा है कि कई बार पालतू जानवरों को उनके मालिक इसलिए अकेला छोड़कर चले जाते हैं क्योंकि वे उनके इलाज का खर्च नहीं उठा सकते. 

अब बू का छह माह तक इलाज चलेगा और फिर उसे किसी को गोद देने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी. इस संबंध में माइक डीजल की फेसबुक पोस्ट को हजारों लोग शेयर कर चुके हैं और उनके पास तमाम ऑफर्स भी पहुंच गए हैं. 

First published: 1 November 2016, 1:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी