Home » अजब गजब » Know why animal kills their child reason make you shock
 

जानिए अपने बच्चों को क्यों मार देते हैं जानवर, वजह जानकर रह जाएंगे दंग

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 June 2019, 12:11 IST

दुनिया का हर इंसान अपने बच्चों से बेइंतहा प्यार करता है. ये बात जानवरों पर भी लागू होती है. बावजूद इसके कुछ जानवर अपने नवजात बच्चे को मार डालते हैं. ये बात आपको हैरान कर सकती है लेकिन बिल्कुल सही है कि कुछ जानवर बचपन में ही अपने बच्चों की हत्या कर देते हैं.

जीव वैज्ञानिक मानते हैं कि स्तनधारी जानवरों में शिशु हत्या सामान्य बात है. एक सर्वे में ये बात सामने आई है. 289 स्तनधारी प्रजातियों पर किए गए एक नये सर्वे में करीब एक तिहाई प्रजातियों में शिशु हत्या के सबूत मिले हैं. कई बार जानवर अपने सामाजिक समूहों के युवा सदस्यों को मार देते हैं. यही नहीं कई बार समूह की मादाएं दूसरी मादा के छोटे बच्चों को भी मौत के घाट उतार देती हैं.

एक मानव विज्ञानी हार्डी ने अपने करियर के शुरुआत में लंगूरों में शिशु हत्या पर रिपोर्ट बनाई. लंगूर बंदरों की एक प्रजाति जो पूरी दुनिया में फैली है. हर्डी की पहली रिपोर्ट के लगभग 40 साल बाद, अब भी जानवरों में शिशु-हत्या पर चर्चा नहीं होती. 1970 के दशक में हर्डी की रिसर्च सामने आई थी जिसके बाद बहुत विवादित हुआ था. वह कहती हैं कि पशुओं में शिशु हत्या के विषय पर लौटने में वह अब भी कई बार डर जाती हैं. वह दक्षिण अमरीका में पेड़ों पर रहने वाले अफ्रीकी बंदरों का इस मामले में उदाहरण देती हैं.

हर्डी बताती हैं कि, "जब मादा मर्मोसेट गर्भवती होती है और बच्चे को जन्म देने के लिए तैयार होती है तभी वह शिशु हत्या के लिए सबसे ज्यादा प्रेरित रहती है." उन्होंने 2007 के एक अध्ययन में एक महीने के मर्मोसेट की हत्या की बात कही थी. इस समूह की मादा प्रमुख के बच्चे को दूसरी मादा मर्मोसेट ने मार दिया था.

उस मादा ने बच्चे को तब मारा जब वह गर्भवती थी. बाद में उसने दो जुड़वां बच्चों को जन्म दिया और समूह की नेता बन गई. शोध में ये बात भी पता चली है हत्यारी मां ने ये कदम उसके अपने बच्चों के सुनहरे भविष्य को सुरक्षित करने के लिए उठाया हो सकता है.

इसके अलावा कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के डायटर लुकास के साथ हचर्ड ने हाल ही में स्तनधारी जानवरों में मादा शिशु हत्या पर एक रिपोर्ट तैयार की.जिसमें स्तनधारी समुदायों में हत्यारी माताओं की व्यापकता को समझने में मदद मिलती है. 289 प्रजातियों में से 30 फीसदी प्रजातियों में शिशु-हत्या के मामले पाए गए है.

कोर्ट में पेश हुई गाय, जज ने सुनाया ऐसा फैसला, मामला जानकर रह जाएंगे हैरान

First published: 17 June 2019, 12:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी