Home » अजब गजब » Lake Turkana world's largest permanent desert lake
 

रेगिस्तान के बीचों-बीच है 20 लाख साल पुरानी यह झील, इसमें छुपे हैं आदिमानवों के कई राज

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 January 2020, 21:13 IST

आज दुनिया में ऐसी काफी कम जगह हैं जहां इंसानों ने कदम नहीं रखा हो. लेकिन पहले ऐसा नहीं था. वैज्ञानिकों का मानना है कि पहले जो इंसान थे और आज के इंसानों की तुलना की जाए तो उसमें काफी अंतर आएगा. वैज्ञानिक यह तो जानते थे कि बंदरो और गोरिल्ला का विकास हुआ और वो इंसान बने लेकिन कोई भी इसके बीच की कड़ी को जोड़ नहीं पा रहा था. इसका एक बड़ा कारण यह था कि इस कड़ी को पूरा करने के लिए कभी ऐसा कोई सबूत नहीं मिला. हालांकि वैज्ञानिकों लो बंदरों और इंसानों के बीच की कड़ी के कंकाल तो मिले लेकिन यह कंकाल कभी भी पूरे नहीं मिले. लेकिन वैज्ञानिकों की इस कड़ी को एक आठ साल के एक लड़के ने पूरा किया.

दरअसल, इस आठ साल के लड़के को केन्या की तुर्काना झील में एक मानव कंकाल मिला. दावा किया जाता है कि यह कंकाल करीब 15 लाख साल पुराना था. इस कंकाल ने वो सभी राज खोल दिए जिससे वैज्ञानिक अभी तक अनभिज्ञ थे. क्योंकि यह कंकाल पूरा था. तुर्काना झील आज बीच रेगिस्तान में बसी है. इसे दुनिया की सबसे बड़ी रेगिस्तान में मौजूद झील भी कहा जाता है. हालांकि वैज्ञानिकों का मानना है कि आज के लाखों साल पहले इस झील के आस पास काफी हरियाली थी. इतना ही नहीं इस झील का दायरा भी काफी ज्यादा था.


 

केन्या की तुर्काना झील की खासियत मात्र इतनी भर नहीं है कि यह 20 लाख साल पुरानी है बल्कि इस झील में इंसानों के विकास की पूरी कहानी अपने अंदर संजोए हुए है.तुर्काना झील के आस पास ज्वालामुखी की गतिविधियों काफी है. इसीलिए यहां की धरती के भीतर की हलचल के कारण इसकी ऊपरी सतह अक्सर बनती बिगड़ती रहती है. ऐसे में यहां पर आदि मानवों के कंकाल जब धरती के भीरती परत में पहुंचे तो वो सुरक्षित रह गए.

बता दें, साल 1968 में पहली बार इस झील के पास केन्या के वैज्ञानिक रिचर्ड लीकी ने कंकालों की खोज शुरू की थी. साल 1972 में उन्हें पहली कामयाबी मिली थी जब उन्हें होमो रुडोल्फेन्सिस नाम के आदि मानव के सिर का कंकाल मिला था. इस कंकाल के मिलने के बाद ही पहली बार वैज्ञानिकों को पता चला की इंसान  का विकासों किसी एक खास प्रजाति से सीधे तौर पर नहीं हुआ जबकि यह बरसों चली विकास का नतीजा था. वहीं जब आठ साल के लड़के को केन्या की तुर्काना झील में एक मानव कंकाल मिला तो इस बात को और बल मिला था. 

 

यही कारण है कि केन्या की तुर्काना झील को आदि मानवों के इतिहास का ख़ज़ाना कहा जाता है. यहां से आदि मानवों के कई और कंकाल मिले हैं जो आदि मानवों यह कह लीजिए हमारे पुरखे कैसे थे इस पर प्रकाश डालते है.इतना ही नहीं साल1972 के बाद 1974 में इस झील से लूसी नाम का एक कंकाल मिला था जिसे ‘ऑस्ट्रेलोपिथेकस अफारेन्सिस’ प्रजाति का नाम दिया गया था.

इस देश के लोग पीते हैं कॉकरोच का सूप, वजह है बेहद खास

First published: 2 January 2020, 19:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी