Home » अजब गजब » Man Face Five year Girl for Coronavirus Prank in Moscow Metro
 

चलती मेट्रो में 'कोरोनावायरस' के कारण गिर पड़ा युवक, हुई पांच साल की जेल देना होगा पांच लाख का जुर्माना

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 February 2020, 18:29 IST

चीन (China) के वुहान शहर से पूरी दुनिया में फैले कोरोनावायरस (Coronavirus) ने भारी तबाही मचाई हुई है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अकेले चीन में 11 फरवरी तक इस वायरस के कारण एक हजार से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके है. भारत के केरल में भी इस वायरस के तीन संक्रमित लोगों की पुष्टी हुई है. जहां पुरी दुनिया में इस वायरस के कारण लोगों में दहशत का माहौल हैं वहीं रूस (Russia) में एक व्यक्ति ने इसी वायरस का इस्तेमाल कर लोगों को डराया(Coronavirus Prank), जिसके कारण उसे अब पांच साल की जेल हुई है साथ ही उसके पांच लाख का जुर्माना भी देना होगा.

दरअसल, बीते दिनों प्रैंकर केरोमेटुलो जेहाबोरोव नामक एक व्यक्ति का वीडियो काफी वायरल हुआ था. बताया जा रहा है कि इस व्यक्ति ने मॉस्को मेट्रो में यात्रियों को डराने के लिए इस तरह का नाटक किया कि वह कोरोनावायरस से संक्रमित है. इससे संबंधित एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें साफ तौर पर देखा जा सकता है कि यह व्यक्ति चलती मैट्रो में गिर जाता है जिसके बाद लोगों में अफरता तफरी मच जाती है और लोग इस व्यक्ति के दूर हटने का प्रयास करते है. जो वीडियो वायरल हो रहा है उसमें लोगों को चिल्लाते हुए और व्यक्ति के गिरने के बाद मची अफरा तफरी साफ तौर पर दिखाई जा रही है.

इस घटना का फुटेज पहले 2 फरवरी को एक साइट पर पोस्ट किया गया था लेकिन बाद में इसे हटा दिया गया. अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि आखिर इस वीडियो को कब फिल्माया गया था. हालांकि इस वीडियो के वायरल होने के बाद पुलिस ने इस व्यक्ति के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया. वहीं मॉस्को के आंतरिक मंत्रालय ने मीडिया को इस बारे में जानकारी दी है कि कोरोनोवायरस के बारे में चिल्लाने वाले इस व्यक्ति के बाकी के दो साथियों की तलाश चल रही है. बता दें, इस मामले में पुलिस ने मुख्य संदिग्ध को आपराधिक गुंडागर्दी के संदेह पर हिरासत में लिया था, जिसमें अधिकतम पांच साल जेल की सजा और 500,000 रूबल (£ 6,000) का जुर्माना था.

वहीं इस व्यक्ति ने वकील ने जानकारी दी,'उनके क्लाइंट के नाम पुलिस ने वारंट जारी किया था. इसके वह खुद ही पुलिस स्टेशन पहुंच गया था. लेकिन सोचा नहीं था कि स्थिति इतनी बिगड़ जाएगी. मेट्रो में प्रैंक कर उसका मकसद लोगों को नुकसान पहुंचाना नहीं, सिर्फ अटैंशन हासिल करना था. ताकि लोग वायरस से बचने के लिए सावधानी बरतें और मास्क लगाएं.'

 

First published: 12 February 2020, 18:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी