Home » अजब गजब » Maxico Island Of Dolls Where You Find Thousands of Creepy Dolls Hang on Trees
 

मैक्सिको के इस आइलैंड में चारों ओर लटकी हैं खतरनाक डॉल्स, जाने में लोगों की कांपती है रूह

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 July 2018, 12:59 IST

दुनियाभर के अमीर लोग अपनी छुट्टियों के दिनों में आइलैंड्स पर जाना पसंद करते हैं. जिन्हें बहुत शांत और सुंदर माना जाता है. इन आइलैंड्स पर प्रदूषण का नामोनिशान नहीं होता है. लेकिन दुनिया में ऐसे भी कई आइलैंड हैं जिन्हें खतरनाक माना जाता है. जहां जाने से लोग कतराते हैं.

इन्हीं में से एक आइलैंड हैं डॉल्स आइलैंड. वैसे इस आइलैंड का नाम 'इसला दे लास मुनेकास' है. लेकिन चारों तरह पेड़ों पर लटकी डॉल्स की वजह से इस आइलैंड को डॉ़ल्स आइलैंड या गुड़ियों का आइलैंड भी कहा जाता है. ये आइलैंड मैक्सिको शहर के दक्षिण में जोचिमिको की नहरों के बीचों-बीच बसा हुआ है. इस आइलैंड की तस्वीरें एक प्रकार के दर्द को प्रदर्शित करती हैं.

जहां हर तरफ डरावनी गुड़िया दिखाई देती हैं. वैसे बच्चों को खिलौने बहुत पसंद होते हैं लेकिन लेकिन यहां मौजूद खिलौनों की तस्वीरें बच्चों को बिल्कुल अच्छी नहीं लगती. इनकी तस्वीरें मात्र देखने से बच्चे ही नहीं बड़े भी डर जाते हैं. फिल्मों में एनाबेल डॉल को देखन से ही हम डर जाते हैं लेकिन यहां लड़की हजारों डॉल्स को देखकर आपकी चीख निकल सकती है.

कहा जाता है कि ये द्वीप एक गरीब लड़की की खोई हुई आत्मा को समर्पित है. हालांकि इस इलाके के आस-पास हजारों लोग रहते हैं लेकिन यह द्वीप हजारों गुड़िया का घर माना जाता है. उनके कटे हुए अंग, क्षीण सिर और खाली आंखें पेड़ों को सजाते हैं. लेकिन लोग इन्हें देखकर डर जाते हैं. दिन के समय तो इन गुड़ियों को देखकर ऐसा लगता है कि उन्हें कोई धमकी दे रही है. लेकिन रात के अंधेरे में ये काफी परेशान दिखाई देती हैं.

ऐसा माना जाता है कि इस द्वीप पर सालों पहले एक लड़की डूब गई थी और अब इन गुड़ियों के आस पास उसकी आत्मा रहती है. द्वीप के आस पास रहने वाले लोगों का कहना है ये सभी गुड़िया अपनी सिर और बाहें हिलाती हैं और कई बार तो अपना मुंह भी खोलती हैं.

वहीं कुछ लोगों का कहना है कि ये गुड़िया आपस में फुसफुसाते हुए बातें करती हैं. द्वीप के पास रहने वाले लोग तो यह भी कहते हैं कि गुड़िया उन्हें द्वीप पर उतरने के लिए लुभाती हैं. इस द्वीप के बारे में भले ही कुछ भी कहा जाए लेकिन ये बेहद डरावना है. जो पर्यटकोंं को आने के लुभाता तो जरूर है लेकिन डराता भी उतना ही है.

बता दें कि पेड़ों पर लटकी इन डॉल्स में कुछ के सिर पीछे की तरफ मुड़े हुए हैं, तो कुछ के केवल सिर लटके हुए हैं. इन गुड़ियों में कोई जली हुई है, कोई टूटी हुई है तो कोई गंदी है. इस जगह पर खाद की एक अजीब सी गंध आती है. ये कभी नीली आंखों से, तो कभी भूरी आंखों से तो कभी बिना आंखों के वहां मौजूद लोगों को देखती हैं.

वाशिंगटन पोस्ट में छपी एक खबर के मुताबिक इस द्वीप की देखभाल करने वाले डोन जुलियन संतना बरेरा ने यहां एक छोटी सी लड़की को डूबते हुए देखा था. इसके बाद उन्होंने उसे बचाने की कोशिश भी की लेकिन वह उसे बचाने में असफल रहे. इसके कुछ समय बाद उन्होंने वहां एक गुड़िया को नहरों के पास तैरते हुए देखा. सबसे अजीब बात तो यह थी कि वह गुड़िया उसी लड़की की तरह थी जिसकी डूबने से मौत हुई थी.

उसके बाद जुलियन ने उस गुड़िया को पकड़ा और उस छोटी सी लड़की की आत्मा को सम्मान देने और उसकी भावनाओं को समर्थन देने के लिए पेड़ पर लटका दिया. लेकिन कुछ रिपोर्ट्स बताती है कि जुलियन ने ये कहानी एकांत में रहने की वजह से बनाई है. वहां कोई लड़की नहीं डूबी थी.

जुलियन के मुताबिक वह उस लड़की आत्मा से डरने लगे थे तो उन्होंने उसकी आत्मा को खुश करने के लिए तरह-तरह की गुड़िया पेड़ों पर टांगना शुरू कर दीं. जुलियन के करीबियों का कहना है कि किसी अदृश्य चीज ने उन्हें प्रेरित किया और वह पूरी तरह बदल गए. वह इस बात से दुखी भी थे कि वह उस छोटी सी लड़की को बचा नहीं पाए.

गुड़ियों को टांगने के करीब 50 साल बाद जुलियन खुद उस जगह पर मृत पाए गए थे जहां छोटी लड़की डूबकर मरी थी. स्थानीय लोगों का कहना है कि 2001 में जुलियन की मौत के बाद ये जगह पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बन गई. अब यहां बहुत से पर्यटक आते हैं और अपने साथ तरह-तरह की गुड़िया लाते हैं.

ये भी पढ़ें- इस शख्स के नाखूनों की लंबाई जानकर रह जाएंगे दंग, 66 साल बाद कटवाने को हुआ राजी

First published: 12 July 2018, 12:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी