Home » अजब गजब » Millennials embedding diamonds in their fingers & ditching engagement rings
 

सगाई की अंगूठी पहनने की बजाय अंगुली में ही हीरा जड़वा रहे हैं युवा

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 March 2018, 18:24 IST
फिंगर पीयर्सिंग (https://www.instagram.com/p/BgY0_5rF0V6/?hl=en&tagged=fingerpiercing)

आजकल के कई युवा अपने हाथ की अंगुली में सगाई की अंगूठी पहनने की बजाय सीधे हीरे को ही अंगुली में जड़वा रहे हैं. यानी वे परंपरागत तरीकों की बजाए नए और अनोखे ढंग से अपने प्रेम का प्रदर्शन कर रहे हैं. हालांकि अंगुली में कोई भी रत्न जड़वाना आसान नहीं है और इसमें खतरा भी बना रहता है.

सीबीएस न्यूयॉर्क से बातचीत में अमेरिका एनवाईसी इंक स्टूडियो के मालिक सैम अब्बास ने कहा, "बाद में हमनें ध्यान दिया कि काफी लोग इसके लिए आ रहे हैं." अब्बास कहते हैं कि किसी भी पीयर्सिंग में यह बहुत जरूरी हो जाता है कि उसे रोजाना दो बार साफ किया जाए और इसे किसी पेशेवर से ही करवाया जाए.

उन्होंने आगे कहा, "आप खून के संपर्क में आ रहे हैं, इसलिए आपको बहुत-बहुत ज्यादा सावधानी-सुरक्षा बरतनी चाहिए." इस चलन को अपनाने वाले लोगों की अंगुली में पहले पेन से एक निशान बनाया जाता है और फिर उसे अल्कोहल से साफ किया जाता है.

इसके बाद पीयर्सिंग करने वाला व्यक्ति अंगुली के उस स्थान से त्वचा का हिस्सा निकाल देता है और फिर रत्न (हीरा-मोती-पन्ना आदि) को जड़ने के लिए सोने या टाइटेनियम का टुकड़ा अंदर डाल देता है. इस प्रक्रिया में तकरीबन 10 मिनट लगते हैं और इस प्रक्रिया में करीब 100 डॉलर (करीब 65,000 रुपये) की लागत आती है. जबकि रत्न की कीमत अलग होती है.

अब्बास कहते हैं कि किसी भी अन्य पीयर्सिंग की ही तरह इस प्रक्रिया में भी थोड़ा दर्द होता है. वे कहते हैं, "आपको यह महसूस होगा. आपकी त्वचा में छेद होगा. इसमें दर्द होता है. लेकिन लोग ऐसा करते हैं, और मैंने कई ऐसे लोग देखे हैं जो कहते हैं, 'बहुत अच्छे, कुछ भी नहीं हुआ, मुझे तो लगा था ज्यादा होगा'."

हालांकि, त्वचारोग विशेषज्ञ डॉ. मोनिका हैलेम इस प्रक्रिया को लेकर सवाल उठाती हैं. वे कहती हैं, "सबसे पहले तो यह प्रक्रिया किसी डॉक्टर द्वारा नहीं की जाती है और यह एक सर्जिकल प्रक्रिया है. त्वचा के बिल्कुल नीचे कई ऐसे महत्वपूर्ण हिस्से होते हैं जो आसानी से नष्ट हो सकते हैं, जैसे टेंडेन."

इसके अलावा जब व्यक्ति इसे रत्न (हीरा) को हटवाना चाहेगा, तो यह प्रक्रिया शुरुआती से ज्यादा दर्द भरी हो सकती है. और घाव भरने में 20 सप्ताह तक का वक्त लग सकता है. 

First published: 18 March 2018, 18:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी