Home » अजब गजब » Missing Railway Wagon Reaches Basti from Vishakhapatnam After Three Years
 

भारतीय रेलवे की ट्रेन बनी 'कछुआ', 1400 किलोमीटर पहुंचने में लगाए 4 साल

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 July 2018, 13:11 IST
(प्रतीकात्मक फोटो)

देश में यात्री ट्रेनों की लेटलतीफी की खबरें तो आए दिन आती रहती है, जिसकी वजह से ना सिर्फ रेलवे को नुकसान होता है बल्कि यात्रियों को भी खासी परेशानी झेलनी पड़ती है. इस बार तो रेलवे ने कमाल ही कर दिया. क्योंकि इस बार यात्री ट्रेन नहीं बल्कि मालगाड़ी यानी गुड्स ट्रेन का एक वैगन गंतव्य तक पहुंचने में इतना लेट हो गया कि पूरे रेल प्रशासन पर सवाल खड़े हो गए हैं.

दरअसल उत्तर मध्य रेलवे के बस्ती स्टेशन पर गुरुवार को साढ़े तीन साल बाद विशाखापट्टनम से एक वैगन पहुंचा. हैरानी वाली बात यह है कि 1400 किमी की दूरी तय करने में वैगन को साढ़े तीन साल का वक्त लग गया. इस वैगन को साढ़े तीन साल पहले बस्ती के ही एक व्यापारी के लिए विशाखापत्तनम से बुक कराया था.

बता दें कि बस्ती के खाद व्यापारी रामचंद्र गुप्ता को 3 नवंबर 2014 को इंडियन पोटास लिमिटेड ने विशाखापत्तनम से डीएपी खाद के 42 वैगन बुक कराए थे. जिसे विशाखापट्टनम पोर्ट रेलवे स्टेशन से चलकर बस्ती पहुंचना था. लेकिन मालगाड़ी 42 वैगन की जगह 41 बैगन लेकर ही बस्ती पहुंची थी और एक वैगन कहीं गायब हो गया. तब से इंडियन पोटास लिमिटेड के अधिकारी और मेसर्स रामचंद्र गुप्ता दर्जनों पत्र रेलवे को लिख चुके थे. लेकिन वैगन का कहीं कुछ पता नहीं चला.

अचानक 25 जुलाई 2018 की सुबह एक मालगाड़ी के साथ गायब वैगन (एसई 107462) बस्ती स्टेशन पहुंच गया. जिसके बाद माल गोदाम के इंचार्ज को सूचना दी गई. जांच-पड़ताल में पता चला कि पुरानी बस्ती के मेसर्स राजेंद्र के लिए इंडियन पोटास लिमिटेड ने वैगन बुक कराकर डीएपी खाद मंगाया था. लेकिन वैगन समय पर नहीं पहुंच पाया था. यह वैगन कहां रह गया था यह कोई बताने वाला नहीं है.

बता दें कि इस वैगन में डीएपी खाद की 1316 बोरियां मिली हैं, जिनमें से अधिकतर खराब हो चुकी हैं और कुछ बोरियां फट भी गईं हैं. रेलवे के एक अधिकारी के मुताबिक मालगाड़ी में लगा वैगन कभी-कभी खराबी के चलते काट कर अलग कर दिया जाता है. हो सकता हो कि वैसा ही इस वैगन के साथ हुआ हो, जो सिस्टम में इधर-उधर घूम रहा होगा.

रेलवे ने इस मामले में की जांच कराने के आदेश दिए हैं. बता दें कि इस बैगन को 1326 किलोमीटर का सफर तय करने में 3 साल 8 महीने और 22 दिन लग गए. जबकि इस वैगन को विशाखापट्टनम से बस्ती स्टेशन पहुंचने में सिर्फ 42 घंटे 13 मिनट समय लगना तय था.

ये भी पढ़ें- देश के इन पांच रेलवे स्टेशन को चलाती हैं सिर्फ महिलाएं, जानिए कौन-कौन से हैं नाम

First published: 28 July 2018, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी