Home » अजब गजब » MP: Police assigned new duties to provide Fodder for Cow
 

एमपी पुलिस की नई ड्यूटी है 'गोसेवा', सिपाही कर रहे हैं चरवाही

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 October 2016, 14:26 IST
(सांकेतिक तस्वीर)

मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले में एक अजीब-ओ-गरीब मामला सामने आया है, जहां जिला प्रशासन ने सिपाहियों को अपराधियों को पकड़ने के बजाए गाय चराने की ड्यूटी पर लगा दिया है.

बताया जा रहा है कि बीते दिनों दिनों पुलिस ने छापा मारकर करीब 1100 गाय और उनके बछड़ों को गोकशी करने वाले से बचाया.

इस मामले में पुलिस को काफी वाह-वाही भी मिली, लेकिन अब वही वाह-वाही जिला पुलिस पर भारी पड़ रही है.

बताया जा रहा है कि जब पुलिस इन गायों को लेकर जिला के काजी हाउस पहुंची तो वहां के अधिकारियों ने जगह की कमी का हवाला देते हुए अपने यहां रखने से हाथ खड़े कर लिए.

ऐसे में इनके के रहने और चारे की व्यवस्था की जिम्मेदारी पुलिस पर आ गई. इस मामले में गोटे गांव के थाना प्रभारी ने बताया कि चारा इकट्ठा करने के लिए हमने 6 जवानों को लगाया गया है. ये जवान सुबह जानवरों को जंगल में लेकर जाते हैं और शाम को 4.30 बजे उन्हें चारा खिलाकर वापस आते हैं.

थाना प्रभारी के मुताबिक इस ड्यूटी में लगाए गए सिपाही यह काम मजबूरी में कर रहे हैं.

पुलिस के द्वारा गाय के लिए ड्यूटी करना कोई नई बात नहीं है. गौरतलब है कि इससे पहले उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ मंत्री आजम खान की भैंस चोरी के मामले में जिले की पूरी पुलिस लगा दी गई थी.

यह घटना 31 जनवरी 2014 की है, जब रामपुर में पसियापुरा स्थित डेयरी फार्म से आजम खान की 7 मुर्रा भैंसें चोरी हुई थीं.

इसके अलावा मोदी सरकार में पूर्व मंत्री रहे राम शंकर कठेरिया का कुत्ता आगरा में गायब हो गया था, तो उनकी पत्नी ने भी पुलिस में रिपोर्ट लिखवा कर कुत्ते 'कालू' के लिए खोजी अभियान चलाने की मांग की थी. 

First published: 31 October 2016, 14:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी