Home » अजब गजब » Mysterious Crooked Forest of Poland Where Pine Trees With Bent Trunks
 

जानिए क्यों इस रहस्यमयी जंगल में 90 डिग्री पर मुड़े हुुए हैं पेड़

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 July 2018, 10:41 IST

पूरी दुन‍िया तमाम अजूबों से भरी हुई है. जहां इंसान ही नहीं प्रकृत‍ि भी अपने अजूबों से लोगों को हैरान करती रहती है. प्रकृत‍ि के इन अजूबों का जीता जागता उदारहण पोलैंड का क्रूक्‍ड फोरेस्ट है. जि‍से देखकर शायद ही कोई ऐसा इंसान होगा जो हैरान न हो. यह जंगल दुन‍िया के बाकी जंगलों से काफी अलग है. यह अपने भयानक पेड़ों की वजह से नहीं बल्‍क‍ि पेड़ों के झुके हुए होने की वजह से एक रस्यमयी जंगल बना हुआ है.

बता दें कि पोलैंड का यह जंगल नोवे सजारनोवो गांव के पास स्थित है. इस जंगल में पेड़ों की खास‍ियत यह है क‍ि ये समकोण यानी क‍ि 90 ड‍िग्री तक झुके हुए हैं. ये तीन से नौ फुट तक बढ़ने के बाद मुड़ते हैं. जो देखने में काफी रहस्‍यमयी लगते हैं. पोलैंड का ये क्रूक्‍ड फोरेस्ट अपने इन रहस्‍यमयी पेड़ों की वजह से काफी चर्चा में रहता है. बताया जाता है कि इस जंगल में ये पेड़ द्वितीय विश्वयुद्ध की शुरुआत से पहले लगाये थे.

ऐसा माना जाता है कि इन पेडो़ं को साल 1930 में लगाया गया था. इन पेड़ों के झुकाव की वजह से ही इस जंगल को क्रूक्ड फोरेस्ट नाम दिया गया. ये जंगल पोलैंड में काफी मशहूर है. ऐसा माना जाता है कि इन पेड़ों को लगाने के लिए किसी विशेष प्रकार की तकनीकी का प्रयोग किया गया होगा.

लेकिन इसका रहस्य आज भी ज्ञात नहींं हो पाया. पेड़ों का मुड़ा होने ही रहस्यमयी नहीं है, बल्कि सभी पेड़ों का एक ही दिशा में मुड़ा होना इसके रहस्य को और गहरा कर देता है. इस जंगल में पेड़ों को देखकर लोग आश्चर्यचकित रह जाते हैं. वर्तमान में भी इस जंगल के पेड़ लोगों के लिए रहस्य बने हुए हैं.

रहस्यमयी होने के साथ ही इस जंगल के पेड़ बहुत खूबसूरत भी लगते हैं. स्थानीय लोगों का कहना है कि गुरुत्वाकर्षण बल की वजह पेड़ मुड़ जाते हैं. वहीं कुछ लोग इन पेड़ों को झुकाने में दूसरे ग्रहों से आए प्राणियों की भूम‍िका को मुख्‍य वजह मानते हैं. 

हालांकि इन पेड़ों के झुकने का सही वजह आजतक किसी को पता नहीं चल सकी. लेकिन प्रकृति की खूबसूरती को बयां करता ये सुंदर जंगल दुनियाभर में अपने इन अनोखे पेडों की वजह से काफी मशहूर है.

ये भी पढ़ें- हजारों फीट की ऊंचाई पर उड़ान भर रहा था विमान, तभी पायलट करने लगा ये काम और…

First published: 16 July 2018, 10:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी