Home » अजब गजब » Norilsk City Coldest City in the World Where It Snows 270 Days a Year
 

इस शहर में दो महीने तक अंधेरे में जिंदगी गुजारते हैं लोग, वजह जानकर थर-थर कांपने लगेंगे आप

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 December 2018, 16:25 IST

दुनिया की हर जगह अलग-अलग समय में दिन-रात होते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि इन्हीं में से एक शहर ऐसा भी है जहां दो महीने तक बिल्कुल अंधेरा रहता है. इसकी वजह भी बेहद ही खतरनाक है, जिसके बारे में जानकर कोई भी डर से कांपने लगता है.

दरअसल, रूस के साइबेरियाा का शहर नोरिल्स्क दुनिया का ऐसा शहर है जहां दो महीने बिल्कुल उजाला नहीं होता. यही नहीं इस शहर को दुनिया का सबसे ठंडा शहर भी माना जाता है. ठंड के दिनों में यहां का न्यूनतम तापमान -61 डिग्री सेल्सियस तक चला जाता है, जबकि यहां का औसत तापमान भी माइनस 10 डिग्री सेल्सियस रहता है.

बता दें कि नोरिल्स्क में पड़ने वाली जबरदस्त ठंड का अंदाजा कोई भी इस बात से लगा सकता है कि यहां साल के 9 महीने तक बर्फ जमी रहती है. ऐसा कहा जाता है कि इस शहर में हर तीसरे दिन लोगों को बर्फीले तूफान का सामना करना पड़ता है. यहां रहने वाले लोगों को दिसंबर और जनवरी के महीने में सूरज के दर्शन तक नहीं होते. लगातार होती रहने वाली बर्फवारी के कारण इस शहर में सूर्योदय नहीं होता. इसीलिए इस शहर में दो महीने उजाला नहीं होता.

बता दें कि ये शहर रूस की राजधानी मॉस्को से करीब 2900 किलोमीटर दूर है. हैरानी की बात तो ये है कि इस शहर में पहुंचने के लिए कोई सड़क भी नहीं है. यहां आने के लिए लोग विमानों या नाव के जरिए ही पहुंचते हैं.हालांकि यहां लोगों की जरूरत की सारी सुविधाएं मौजूद हैं. आपको यहां सिनेमाघर, कैफे, चर्च और बार जैसी सभी चीजें आसानी से मिल जाएंगी.

बता दें कि नोरिल्स्क को रूस का सबसे अमीर शहर कहा जाता है, क्योंकि यहां दुनिया का सबसे बड़ा प्लैटिनम, पैलेडियम और निकल धातु का भंडार है. हालांकि इस शहर को दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में में भी गिना जाता है. क्योंकि यहां बड़े पैमाने पर माइनिंग और रिफाइनिंग का काम होता है.

जिससे भारी मात्रा में सल्फर डाइऑक्साइड निकलता है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, यहां की हवा में सल्फर डाइऑक्साइड की मात्रा इतनी ज्यादा है कि यहां करीब 30 किलोमीटर के दायरे की वनस्पति ही खत्म हो गई है. यहां लोगों को बेरी या मशरूम तोड़ने की मनाही है.

ये भी पढ़ें- इस मंदिर में मूर्तियां करती हैं बातचीत, वैज्ञानिक भी नहीं समझ पाए ये रहस्य

First published: 30 December 2018, 16:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी