Home » अजब गजब » Norway’s Future library after 100 Years This Entire Forest Will Be Turned into Mystery Manuscripts
 

100 साल बाद लाइब्रेली के रूप में बदल जाएगा ये पूरा जंगल, जानिए क्या है इसकी वजह

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 March 2019, 15:11 IST

क्या सोच सकते हैं कि कोई शख्स सौ साल बाद किताबें छपवाने के लिए आज से ही तैयारी शुरु कर दे. लेकिन ऐसा ही कुछ हो रहा है नार्वे में. जहां एक खास तरह की भविष्य की लाइब्रेरी बनाई जा रही है.भविष्य की इस लाइब्रेरी में रखी जाने वाली किताबों के लिए अभी से तैयारियां शुरु हो गई हैं. इसके लिए ओस्लो के नाॅर्डमार्क के जंगल में चीड़ के एक हजार पौधे लगाए गए हैं. 100 साल बाद जब इन पेड़ों को काटा जाएगा तो इन्हीं की लकड़ियों से जो कागज बनेंगे, उनसे 100 पुस्तकों का प्रकाशन किया जाएगा.

जानकारी के मुताबिक फिलहाल लाइब्रेरी में इन पुस्तकों की पांडुलिपियां रखी गई हैं. जिन्हें पढ़ने की फिलहाल किसी को इजाजत नहीं है. ये लाइब्रेरी स्कॉटलैंड के कलाकार केटी पैटरसन की चार साल पहले बनाई 'फॉरेस्ट टू फ्यूचर लाइब्रेरी' योजना का हिस्सा है.

बता दें कि 100 सालों में 100 लेखक अपनी रचनाएं जमा करवाएंगे. इन रचनाओं को ओस्लो की न्यू पब्लिक डेचमंस्के लाइब्रेरी में लकड़ी से बने विशेष कमरे में सुरक्षित रखा जाएगा. इन रचनाओं को लाइब्रेरी के शेल्फ में रखें तो देखा जा सकेगा, लेकिन कोई इन्हें पढ़ नहीं सकेगा.

इन रचनाओं का प्रकाशन साल 2114 में एक-एक कर किया जाएगाबता दें कि भविष्य की इस लाइब्रेरी के लिए पहला उपन्यास कनाडा की मशहूर साहित्यकार मार्गरेट एटवुड ने जमा करवाया है. वह बुकर पुरस्कार विजेता भी रह चुकी हैं. उनके उपन्यास का नाम 'स्क्रिबलर मून' है. जो 2114 में प्रकाशित होगा.

इस अद्भुत गुफा में सोने के लिए आते हैं लोग, वजह जानकर रह जाएंगे दंग

First published: 9 March 2019, 15:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी