Home » अजब गजब » Parents buried alive newborn baby girl in Odisha, rescued incredibly by a girl, See Video
 

Video: ओडिशा में नवजात बच्ची को जिंदा दफनाया

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 March 2017, 18:24 IST
(एएनआई)

अगर दुनिया में बुराई बढ़ती जा रही है तो अच्छाई भी जिंदा है. हैवानियत के बीच इंसानियत अपना काम कर रही है. अब ओडिशा की ही घटना को लें जहां पहले तो एक दिन से भी कम वक्त की नवजात लड़की को न जाने किस वजह से उसके घरवालों ने जिंदा दफना दिया. लेकिन ऊपर वाले को शायद उसकी मौत मंजूर नहीं थी और उसने फरिश्ते के रूप में एक लड़की को उसकी जान बचाने भेज दिया.

'फानूस बनके जिसकी हिफाजत हवा करे, वो शमा क्या बुझे जिसे रोशन खुदा करे.' यह पंक्ति लगता है कि पैदा होने के चंद घंटों बाद जिंदा दफनाई गई एक नवजात बच्ची "धारित्री" पर फिट बैठती है. ओडिशा के जाजपुर जिले में शनिवार को तकरीबन एक छह घंटे की नवजात बच्ची को एक खेत के किनारे जमीन में जिंदा गाड़ दिया गया.

वहां से गुजरती एक लड़की ने जमीन में कुछ हलचल देखी और ध्यान दिया तो पता चला कि किसी छोटे बच्चे का पैर जमीन से निकल रहा था. इसके बाद उसने नजदीकी लोगों को सूचना दी और बच्ची को बचाया.

इस घटना के एक चश्मदीद आलोक राउत के मुताबिक, "एक छोटी बच्ची ने सबसे पहले खेत के पास जमीन के अंदर दफनाई गई बच्ची के पैर देखे. इसके बाद हमलोग उस स्थान की ओर भागे और नवजात बच्ची को बचाया."

आलोक के मुताबिक इस बच्ची के मुंह को कपड़े से ढक गया था. इसके बाद बच्ची को धर्मशाला अस्पताल ले जाया गया. अस्पताल के कर्मचारियों ने बच्ची का नाम 'धारित्री' रखा है. संस्कृत मे इसका मतलब पृथ्वी होता है.

 

जाजपुर जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी फणिंद्र कुमार पाणिग्रही ने बताया कि बच्ची अब अच्छी है और सामान्य है. करीब 2.50 किलोग्राम वजनी बच्ची का जन्म गर्भ में पूरा वक्त बिताने के बाद हुआ है. उसकी गर्भनाल बिल्कुल सही है और उसके शरीर को साफ नहीं किया गया था, उसपर पेट के अंदर मौजूद पदार्थ लगा हुआ था.

अस्पताल से इलाज पूरा होने के बाद इस बच्ची को राज्य द्वारा संचालित बाल कल्याण समिति को दे दिया जाएगा.

पुलिस ने संदेह जताया है कि इस नवजात को यू दफनाने का कारण या तो बिन ब्याही मां का बच्चा होना या फिर इसका लड़की होना हो सकता है.

स्थानीय पुलिस अधिकारी ज्योति प्रकाश पंडा ने कहा, "हम बच्ची के अभिभावकों का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं. आशंका है कि यह लड़की पैदा होने का मामला है लेकिन इतना तो तय है कि आरोपी इसे मारना चाहते थे."

इसके बाद पुलिस ने अज्ञात अभिभावकों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है.

गौरतलब है कि भारत में लिंग अनुपात के अंतर को मिटाने के लिए संघर्ष चल रहा है और देश में इसके लिए कड़े कानून भी बनाए गए हैं. 2011 की जनगणना के मुताबिक भारत में 1000 पुरुषों पर 940 महिलाएं हैं.

इस माह की शुरुआत में ही पश्चिमी महाराष्ट्र में पुलिस ने सीवर से 19 मादा भ्रूण बरामद किए थे और इसके आरोप में एक डॉक्टर को गिरफ्तार किया था जो लड़के की चाहत रखने वाले मां-बाप के बच्चे को अवैध रूप से गिराता था.

First published: 28 March 2017, 18:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी