Home » अजब गजब » Poisonings with extraordinarily common household items
 

पानी से लेकर चॉकलेट तक, जब इन 5 घरेलू चीजों ने ले ली लोगों की जान

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 May 2019, 11:12 IST

कहते हैं जरूरत से अमृत भी मौत का कारण बन जाती है. ऐसी ही हम आपको कुछ घटनाओं के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसमें एक साधारण सी घरेलू चीजों ने लोगों की जान ले ली. जरूरत से ज्यादा किसी भी चीज का इस्तेमाल करना जानलेवा हो सकता है. इस बात को साबित करते हैं ये कुछ मामले, जिसमें जरा सी लापरवाही ने लोगों को मौत की नींद सुला दी. चलिए जानते हैं उन मामलों के बारे में-

पानी

ज्यादा पानी पीने का मामला जॉर्जिया की है. ये मामला साल 2014 में गर्मी के सीजन का है. यहां एक फुटबॉल खिलाड़ी ने अपनी प्रैक्टिस के बाद थकान को दूर करने के लिए इतना पानी पिया की उसकी मौत हो गई. बताया जा रहा है कि अपनी थकान को दूर करने के लिए खिलाड़ी ने करीब 7.6 लीटर पानी पी लिया, जिसके बाद वह घर जाते ही बेहोश हो गया. बेहोशी की हालात में जह उसे अस्पताल ले जाया गया. तब पता चला की अधिक पानी पीने की वजह से उसके दिमाग में सूजन आ गई थी. इसके बाद उसका ब्रेन डेड हो गया.

चॉकलेट

चॉकलेट के कारण इटली में साल 2015 में पूरे परिवार की मौत हो गई. इस घटना के बारे में बताया गया था कि उसने अपने घर में गर्म चॉकलेट के कप तैयार किए थे. इस कप की एक चुस्की लेते ही उसका पति बीमार हो गया. उसे काफी उल्टियां होने लगी. इसके बाद एक-एक करके पूरा परिवार बीमार होने लगा. इस घटना के बाद पता चला कि वह चॉकलेट एक्सपायरी डेट की थी. इसके कारण पूरे परिवार को फूड पॉइजनिंग का शिकार होना पड़ा.

नमक

न्यू यॉर्क में साल जनवरी 2014 में एक पांच साल के बच्चे की मौत नमक खाने से हो गई. इस मामले के बारे में बताया जाता है कि उसकी मां ने उसे शुरू से ही इतना ज्यादा नमक खिलाया कि वह सोडियम पॉइजनिंग का शिकार हो गया. शरीर में सोडियम लेवल अधिक बढ़ने के कारण उसके ब्रेन में सूजन आ गई, जिसके बाद उसकी मौत हो गई.

गर्मियों में स्किन पर होने वाली इन समस्याओं का घर बैठे चुटकियों में ऐसे करें इलाज

 

नेल ग्लू

ब्रिटेन में साल 2010 में एक आदमी ने अपनी आंखों में कुछ बूंदें दवा डाली. उसकी पत्नी ने गलती से आंखों की दवा के बदले उसमें नेल ग्लू डाल दिया. इस ड्रॉप के आंखों में पड़ते ही उसे आंखों में तेज से काफी दर्द होना शुरू हो गया. जब उसने आंखों को पानी से धोया तो उसे राहत नहीं मिली.

थर्मामीटर से जान पर बन आई

लकवा के एक मरीज के लिए थर्मामीटर जान पर बन आई. दरअसल, साल 2010 में एक लकवा मरीज को उसके शरीर का तापमान मापने के लिए उसके मुंह में थर्मामीटर डाला गया. अचानक उसका मुंह सिकुड़ गया, जिसकी वजह से उसे मुंह में थर्मामीटर टूट गया. ऐसा होने से उसके पेट में थर्मामीटर का पारा चला गया था, जिसके बाद ऑप्रेशन से उसकी जान बचा ली गई. लेकिन ये घटना उसके जान पर बन आई थी.

कांपते हैं आपके हाथ-पैर तो हो जाएं अलर्ट, कहीं आप इस गंभीर बीमारी के तो नहीं हैं शिकार?

 

First published: 2 May 2019, 11:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी