Home » अजब गजब » Shadows of Hiroshima haunting imprints of people killed in nuclear blast
 

75 साल से रहस्य बनी हुई है ये परछाईं, आजतक नहीं लगा सका कोई पता

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 March 2020, 11:11 IST

The shadows of hiroshima: साल 1945 में अमेरिकी सेना (American Army) ने जापान (Japan) के हिरोशिमा और नागाशाकी (Hiroshima and Nagasaki) शहरों पर परमाणु बम (Atom Bomb) गिराए थे. इस हमले में लाखों लोगों की जान चली गई और तमाम लोग अपाहिज हो गए. सबसे पहले अमेरिका ने हिरोशिमा पर परमाणु बम गिराए थे. जहां आज भी इंसान जैसी दिखने वाली एक परछाई नजर आती है, जो पिछले 75 साल से इसी तरह से दिखाई दे रही है. इसका रहस्य आजतक कोई नहीं जान पाया. इस परछाई को 'द हिरोशिमा स्टेप्स शैडो' या 'शैडोज ऑफ हिरोशिमा' के नाम से जाना जाता है.

बता दें कि द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान जब हिरोशिमा पर परमाणु हमला हुआ था, तो लाखों लोग एक झटके में मौत के मुंह में समा गए. परछाई वाली ये तस्वीर भी धमाके वाली जगह से 850 फीट की दूरी पर खींची गई थी, जहां कोई व्यक्ति बैठा हुआ था. कहा जाता है कि परमाणु बम की अथाह ताकत ने वह व्यक्ति गायब हो गया. लेकिन उसकी परछाई को परमाणु बम भी मिटा नहीं सका. इस छाया की वास्तविकता की कभी पहचान नहीं हो पाई कि वो व्यक्ति कौन था, जो वहां पर बैठा हुआ था. यह अब तक रहस्य ही बना हुआ है.

एक अनुमान के मुताबिक, हिरोशिमा परमाणु विस्फोट में लगभग एक लाख 40 हजार लोगों की जान गई थी. जब विस्फोट हुआ तो उसमें से भयंकर ऊर्जा निकली थी और कहते हैं कि उसकी गर्मी की वजह से ही करीब 60 हजार से 80 हजार लोग मारे गए.

इस रहस्यमयी शहर को बनाने वाले का आजतक नहीं चला पता, जिसे कहा जाता है 'प्लेस ऑफ गॉड'

जबकि बाद में परमाणु विकिरण संबंधी बीमारियों के चलते भी हजारों लोगों की मौत हो गई. बता दें कि हिरोशिमा पर गिराए गए परमाणु बम का नाम 'लिटल ब्वॉय' था, जिसका वजन करीब 4400 किलोग्राम था.

रहस्यमयी तरीके से गायब हो गया था 92 यात्रियों से भरा ये विमान, 35 साल बाद की थी लैंडिंग

कहते हैं कि इस बम के फटने से जमीनी स्तर पर लगभग 4,000 डिग्री सेल्सियस तक की गर्मी पैदा हुई. जब इंसान 50 से 55 डिग्री सेल्सियस तक की गर्मी बर्दाश्त नहीं कर पाता, तो ऐसे में 4,000 डिग्री सेल्सियस गर्मी को वो कैसे बर्दाश्त करते. लोग इस गर्मी से जलकर राख हो गए.

इस शख्स को था अजीबोगरीब चीजें खाने का शौक, खा गया था पूरा हवाई जहाज

रहस्यमयी तरीके से गायब हो गया था इस देश का प्रधानमंत्री, आजतक नहीं चला पता

यहां मिला एक हजार करोड़ साल पुराने डायनासोर का अवशेष, जो था दुनिया का सबसे छोटा

First published: 16 March 2020, 11:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी