Home » अजब गजब » shital rane mahajan has set a new record in skydiving with wear saree in thailand
 

साड़ी पहनकर महिला ने रचा ऐसा इतिहास जिसके बारे में कोई सोच भी नहीं सकता था

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 February 2018, 11:54 IST

 

देश की बेटियां हर क्षेत्र में एक नया इतिहास रच रही है. अब शीतल राणे महाजन ने आसमान की बुलंदियों से छलांग लगाकर स्काइडाइवर के इतिहास में नया अध्याय जोड़ दिया. महाराष्ट्र के पुणे की रहने वाली शीतल ने साल 2003 में एडवेंचर स्पोर्ट्स की दुनिया में पहचान बनाई थी. उसके बाद शीतल ने कई नए रिकॉर्ड बनाए. उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया जा चुका है.

ये भी पढ़ें- इस अंगरेज की हरियाणवी सुनकर दंग रह जाएंगे आप, वीडियो वायरल

इस बार तो शीतल राणे महाजन ने थाईलैंड के पटाया में 3 हजार फीट की ऊंचाई से महाराष्ट्रीयन नव्वारी साड़ी पहनकर छलांग लगाई. जो अपने आप में नया रिकॉर्ड है. यही नहीं उन्होंने ये रिकॉर्ड 9 मीटर से ज्यादा लंबी साड़ी पहनकर बनाया. शीतल शादी-शुदा हैं और दो बेटों की मां हैं. उन्होंने अपने 14 साल के करियर में नेशनल और इंटरनेशलन लेवल पर 705 स्काइडाइव लगाए हैं.

 

हिन्दी समाचार चैनल आजतक के मुताबिक शीतल को महाराष्ट्र ने आसमान की उंचाई को छूने का हौसला दिया है, उस राज्य के लिए वह कुछ अलग करना चाहती थीं. इसीलिए उन्होंने ठान लिया था कि कुछ अलग और हटके किया जाए.

कैसे बदली शीतल की जिंदगी

बात साल 2000 की है. एक दिन शीतल पुणे में अपने घर के पास वाले प्रेस की दुकान से घर के कपडे़ लाने गई थीं. तभी उनकी नजर एक अखबार पर पड़ी. इस अखबार में कमल सिंह ओबड की फोटो छपी थी. कमल उस उन दिनों पुणे के NDA में पोस्टेड थे. कमल की बहन शीतल की अच्छी सहेली थीं. इसीलिए शीतल ने कमल को फोन किया और उनके अखबार में छपे होने की पूरी बात पूछी. कमल ने शीतल को अखबार पढ़ने को कहा. लेकिन शीतल अंग्रेजी नहीं जानती थी. इसलिए उन्होंने अखबार नहीं पड़ा और फोन काट दिया.

 

कौन हैं कमल सिंह ओबड

कमल सिंह ओबड ऐसे पहले भारतीय हैं जिन्होंने नॉर्थ पोल और साउथ पोल पर स्काइडाइविंग की है. शीतल भी उन्हीं से प्रभावित होकर स्काइडाइव के फील्ड में आ गईं. कमल सिंह ओबड ने ही शीतल को ट्रेनिंग दी. दो साल की कड़ी ट्रेनिंग के बाद शीतल ने ये हुनर सीख पाया. शीतल ने पहली बार आर्टिक सर्कल पर स्काइडाइव की थी.

 

 

 

कई रिकॉर्ड हैं शीतल के नाम

शीतल ने अबतक दुनियाभर में 704 छलांग लगाई हैं. शीतल ने अप्रैल 2004 में एडवेंचर स्पोर्ट की शुरुआत की थी. उस दौरान उन्होंने नॉर्थ पोल पर माइनस 37 डिग्री तापमान में 2400 फीट की ऊंचाई से छलांग लगाई थी. उन्होंने साल 2016 में अंटार्कटिका में 11,600 फीट छलांग लगाकर रिकॉर्ड बनाया था. इसके बाद वो दुनिया की ऐसी पहली महिला बन गई जिसने इतनी ऊंचाई से छलांग लगाई थी.

सात महाद्वीपों में लगा चुकी हैं छलांग

शीतल ने अबतक 7 महाद्वीपों में स्काइडाइविंग की है. इसके लिए उन्हें एयरो क्लब ऑफ इंडिया ने पिछले साल FAI साबिहा गोक्सेन मेडल के लिए नॉमिनेट किया था. 2006 में उन्हें राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने राष्ट्रीय साहस पुरस्कार से नवाजा था.

आसमान में रचाई थी शीतल ने शादी

शीतल को आसमान की बुलंदियों से इतना प्यार है कि उन्होंने शादी भी उसी इंसान से की जिसे ऊंचाईयों से प्यार हो. शीतल के पति वैभव स्काइडाइवर हैं. उन्होंने साल 2011 में वैभव से शादी की थी. शादी की रस्मों के लिए उन्होंने आसमान को चुना और 750 फीट ऊंचाई पर हॉट एयर बलून में उन्होंने शादी रचाई. इसके साथ ही वो देश के पहले सिविलियन कपल बन गए जो स्काइडाइवर हैं.

 

First published: 13 February 2018, 11:54 IST
 
अगली कहानी