Home » अजब गजब » Soon you will able to keep your old number plate with new vehicle in India, claims report
 

खानदानी हो जाएगी गाड़ी की नंबर प्लेट, नए वाहन में लगा सकेंगे पुराना रजिस्ट्रेशन नंबर

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 March 2018, 17:34 IST
फाइल फोटो

अगर आप अपनी नई कार या मोटरसाइकिल में पुरानी गाड़ी का ही नंबर लगाना चाहते हैं तो जल्द ही देश में इसकी सेवा शुरू कर दी जाएगी. परिवहन विभाग इस बाबत एक नया प्रस्ताव लेकर आया है, ताकि लोग अपनी पुरानी नंबर प्लेट नई कार-बाइक में लगा सकें. यह पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन होगी.

ऑटोमोबाइल वेबसाइट cartoq.com की मानें तो इसके लिए वाहन स्वामियों को ऑनलाइन अप्लाई करना होगा और एक निर्धारित शुल्क जमा करना होगा, ताकि वो अपने नए वाहन में पुराना वाहन रजिस्ट्रेशन नंबर ही इस्तेमाल कर सकें. परिवहन विभाग द्वारा दिए गए प्रस्ताव में कारों के लिए शुल्क 5,000 रुपये जबकि बाइकों-दोपहिया वाहनों के लिए करीब 500 रुपये रखा जाएगा.

शुल्क को लेकर अंतिम फैसला अभी लिया जाना बाकी है और इसकी अनुमित कैबिनेट ने लेनी बाकी है. परिवहन विभाग का कहना है कि लोगों में जागरूकता की कमी के चलते फिलहाल बहुत कम आवेदन ही किए जा रहे हैं. यह नई स्कीम पुरानी नंबर प्लेट के इस्तेमाल को बढ़ावा देगी.

फाइल फोटो

जानिए क्या है पुरानी नंबर प्लेट को अपने पास रखने की प्रक्रिया?

  • सबसे पहले यूजर को परिवहन विभाग की वेबसाइट पर जाकर पुरानी वाहन पंजीकरण संख्या (रजिस्ट्रेशन नंबर) डालकर आवेदन करना होता है और फिर प्रस्तावित शुल्क जमा करना होता है. इसके बाद सिस्टम एक स्लिप जनरेट कर देता है और इसमें यूजर द्वारा दिया गया नंबर होता है.
  • वहीं, नई कार खरीदते वक्त डीलर को यह स्लिप देनी होती है, जो अपने सिस्टम में यह जानकारी डाल देता है और आपको अपने नए वाहन के लिए वही नंबर मिल जाता है.
  • इसके बाद यूजर को मोटर लाइसेंस ऑफिसर (एम.एल.ओ) के पास जाना होता है, ताकि आपके पुराने वाहन को एक नया नंबर दिया जा सके.

आपको बता दें कि पुरानी नंबर प्लेट को अपने नए वाहन में लगाए जाने की यह प्रक्रिया कई बार अपनाई जा सकती है, ताकि यूजर अपने उसी नंबर को लंबे वक्त तक अपने पास बनाए रखे.

परिवहन विभाग ने इसके अलावा वीआईपी नंबर्स की चार कैटेगरी बनाई हैं. नीलामी के दौरान इन कैटगरी में निर्धारित नंबरों को ऊंची कीमत में रखा जाता है, जबकि अन्य नंबरों की कीमत कम रखी जाती है. एक कैटेगरी लोगों को अपने वाहन के लिए मनपसंद नंबर चुनने का भी मौका देती है.

यह नई प्रक्रिया लोगों को अपने पुराने रजिस्ट्रेशन नंबर को बरकरार रखने के साथ ही एक शुल्क देने के बाद नया नंबर लेने का मौका देगी, और इससे परिवहन विभाग का राजस्व भी बढ़ जाएगा. यह नया नियम सभी राज्यों में जारी कर दिया जाएगा.

First published: 14 March 2018, 17:34 IST
 
अगली कहानी