Home » अजब गजब » The bride has to undergo "virginity test in Kanjarbhat community
 

यहां दुल्हन को शादी की पहली रात देना होता है वर्जिनिटी टेस्ट, इंकार करने पर मिली ऐसी सजा कि...

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 October 2018, 17:10 IST

एक ऐसा समुदाय भी है जहां पर नई-नवेली दुल्हन को "वर्जिनिटी टेस्ट" से गुजरना पड़ता है. जब इस बात के खिलाफ इस समुदाय की एक महिला ने कदम उठाया तो उसे इसके खिलाफ विरोध करने पर सजा दी गई . इस सुमदाय का नाम कंजरभाट समुदाय है और यहां पर "वर्जिनिटी टेस्ट" के खिलाफ विरोध करने वाली एक महिला कार्यकर्ता को महाराष्ट्र के पिंपरी चिंचवाड़ में नवरात्रि दंडिया उत्सव में भाग लेने से रोक दिया गया.

इस बात का खुलासा खुद 23 साल की ऐश्वर्या भट-तमाईचिकार ने किया है, बता दें ऐश्वर्या और उनके पति उस प्रथा के खिलाफ "स्टॉप दी V-रिवाज" अभियान का नेतृत्व कर रहे हैं. इस सुमदाय का यह रिवाज बहुत गंदा है यहां पर आने वाली कंजरभाट दुल्हन को शादी की पहली रात कौमार्य परीक्षण से गुजरना पड़ता है. इस पूरे मामले में ऐश्वर्या ने कहा, "पिंपरी चिंचवाड़ में एक पुलिस शिकायत दायर की है, मेरे समुदाय के लोगों ने मुझे नवरात्रि दंडिया में भाग लेने की इजाजत नहीं दी. मुझे बताया गया कि मैंने कौमार्य परीक्षण का विरोध करके कंजरभाट समुदाय का नाम खराब किया है, जो कि हमारे समुदाय में आम है."


अपने साथ हुई इस घटना के बारे में उन्होंने कहा, "दंडिया कार्यक्रम मेरे समुदाय के कुछ सदस्यों द्वारा आयोजित किया गया था. जब दांडिया खेला जा रहा था, अचानक संगीत बंद हो गया और जब सब लोग अनजान दिख रहे थे, तो मेरी मां मेरे पास आई और मुझसे घर आने के लिए कहा. हालांकि, जब मैंने विरोध किया, तो उसने मुझे बताया कि समुदाय के सदस्य खुश नहीं थे कि मैंने इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया. मैंने जगह छोड़ी, इसके बाद आयोजकों ने दंडिया फिर से शुरू किया, जिसने पुष्टि की कि वे मुझे भाग लेने से रोकना चाहते हैं."

इसी घटना का विरोध कर रहे ऐश्वर्या के पति विवेक तमाईचिकार ने कहा, " हमने कंजरभाट समुदाय में अभी भी प्रचलित कौमार्य परीक्षण के खिलाफ विरोध किया. इसके कारण, मेरी पत्नी को समुदाय के सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेने से इनकार किया गया. यह असंवैधानिक है."

First published: 19 October 2018, 17:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी