Home » अजब गजब » the great Chinese famine four pests campaign
 

जब चीन की एक गलती के कारण गई थी करोड़ों लोगों की जान

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 March 2020, 22:47 IST

चीन के वुहान शहर से फैला कोरोना वायरस अब तक पूरी दुनिया में छह लाख से अधिक लोगों को अपनी चपेट में ले चुका है जबकि इस वायरस से संक्रमित होने पर 25 हजार से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके है. इस वायरस के कारण अकेले चीन में तीन हजार से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके है. हालांकि चीन अब इस वायरस को रोकने में सफल हो चुका है. वहीं ऐसा पहली बार नहीं है जब चीन से आए किसी वायरस के कारण लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है. इससे पहले एमएआरएस जैसी बीमारियां लोगों की जान ले चुकी है. इतिहास में एक किस्सा और है जब चीन की उसकी गलती के कारण करोड़ो लोगों की जान गई थी. साल 1960 में चीन में अकला पड़ा था, इस अकाल के लिए जितना दोष प्रकृति को दिया जाता उससे कहीं अधिक दोष चीन की सरकार का था यह कहना गलता नहीं होगा.

साल 1958 के दौरान चीन की सत्ता माओ जेडॉन्ग जिन्हें माओ से-तुंग भी कहा जाता है उनका शासन था. उन्होंने राज्य में 'फोर पेस्ट कैंपेन'नामक एक अभियान शुरू किया था जिसमें उन्होंने मच्छर, मक्खी, चूहा और गौरैया चिड़िया का मारने का आदेश दिया था क्योंकि माओ जेडॉन्ग का कहना था कि इन जीवों के कारण किसानों की मेहनत बेकार कर देंते थे और सारा अनाज खा जाते थे.


मच्छर, चूहें और मक्खी को लोगों से बच गई लेकिन गौरैया चिड़िया को लोगों के बीच रहती थी, ऐसे में वो लोगों के निशाने पर आ गई. बताया जाता है कि उस दौरान लोग लोग बर्तन, टिन या ड्रम बजा-बजाकर गौरैया को उड़ाते और फिर उसके उड़ने पर उसका शिकार कर देते.

लेकिन दो साल के अंदर ही माओ जेडॉन्ग ने अपना इरादा बदल लिया और इसका कारण था कि एक वैज्ञानिक ने उन्हें बताया कि गौरैया चिड़िया बड़ी संख्या में अनाज को नुकसान पहुंचाने वाले कीड़े भी खा जाती हैं. दूसरी तरफ चीन में चावल की पैदावार बढ़ने के बजाय लगातार घटती जा रही थी. ऐसे में माओ ने नया आदेश दिया कि गौरैया चिड़िया की जगह टिड्डों को मारा जाए.

हालांकि तब तक काफी देर हो चुकी थी. गौरैया चिड़िया के लगातार गायब होने के बाद टिड्डों की संख्या में भारी बढ़ोतरी हुई, जिसका नतीजा हुआ कि यह सारी फसलें बर्बाद हो गई. वहीं इसके बाद चीन में भयानक अकाल पड़ा, जिसके कारण करोड़ो लोगों की जान गई थी. चीनी सरकार के दस्तावेजों के अनुसार चीन में 1.50 करोड़ लोगों की मौत भूखमरी से हुई थी. लेकिन इतिहास कारों की मानें तो इस अकाल के दौरान करीब पांच करोड़ लोग की जानव गई थी.

जब समुद्र से अमेरिका ने गायब कर दिया था अपना जहाज, आज भी रहस्य है इसकी कहानी

जब एक व्यक्ति को लटकाया गया फांसी पर लेकिन दो घंटे तक वो रहा जिंदा!

जब गांधी जी हो गए थे फ्लू से संक्रमित, हुई थी करोड़ों लोगों की मौत

First published: 28 March 2020, 22:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी