Home » अजब गजब » These International Borders are Unreliable that will surprise you
 

अद्भुत हैं इन देशों के इंटरनेशनल बॉर्डर, जिनके बारे में जानकर हैरान रह जाएंगे आप

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 July 2018, 16:46 IST

हर देश की सीमा किसी ना किसी देश के साथ जुड़ी होती है. जहां दो देशों की सीमा मिलती है उसे इंटरनेशनल बॉर्डर कहा जाता है. इसी बॉर्डर की वजह से दो देश अपनी-अपनी जमीन की पहचान कर पाते हैं इसके लिए दोनों देश या तो दीवार लगाते हैं या फिर कांटेनुमा तार लगाकर अपने देश का बॉर्डर तय करते हैं. लेकिन दुनिया में कई देश ऐसे भी हैं जिन्होंने अपना बॉर्डर तय करने के लिए कुछ नहीं किया. यानी वहां ना तो दीवार लगाई गई और ना ही कंटीले तार. वहीं कुछ देशों ने बॉर्डर तय भी किया है तो वहां के सैनिक हर रोज एक दूसरे से मुलाकात भी करते हैं.

 

नॉर्वे और स्वीडन

नॉर्वे और स्वीडन दो ऐसे देश हैं जहां आज तक बॉर्डर बनाने के लिए कोई दीवार या कंटीले तार नहीं लगाए गए. यानी आप ये नहीं बता सकते हैं कि कौन सी जमीन नॉर्वे की है और कौन सी स्वीडर की. दोनों देशों का बॉर्डर खुला हुआ है. दाहिनी तरफ स्वीडन है तो बाहिनी तरफ नॉर्वे.

दक्षिण कोरिया और उत्तर कोरिया

उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया में भले ही ठनी रहती हो लेकिन इन दोनों देशों के बॉर्डर पर भी आजतक कोई दीवार या कंटीला तार नहीं लगाया गया. हालांकि दोनों देशों के नागरिकों को बिना अनुमति एक दूसरे की सीमा में जाने की इजाजत नहीं है.

ब्राज़ील, अर्जेंटीना और पैराग्वे

यह बॉर्डर 3 देशो के बीच में है, यह अर्जेंटीना, ब्राज़ील और पैराग्वे को आपस में जोड़ता है. यही भी कोई दीवार या तार नहीं लगाया गया.

जर्मनी और नीदरलैंड

जर्मनी और नीदरलैंड भी दो ऐसे देश हैं जहां बॉर्डन नाम की कोई चीज नहीं है. ना दीवार है और ना ही कंटीले तार.

स्पेन और पुर्तगाल

यह बॉर्डर स्पेन और पुर्तगाल को आपस में जोड़ता है, एक देश से दूसरे देश में जाने में सिर्फ1 मिनट लगता है.

 

बाघा बॉर्डर, भारत-पाकिस्तान

यह बॉर्डर भारत और पाकिस्तान के बीच है, यहां रोज शाम को 45 मिनट की परेड होती है. जिसमें दोनों देशों के सिपाही आपस में हाथ मिलाते है और परेड करते हैं.

ये भी पढ़ें- रिटायरमेंट के बाद आर्मी के कुत्तों को दी जाती है ये खतरनाक सजा

First published: 7 July 2018, 16:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी