Home » अजब गजब » This Ashram Support to Men Who Harassed by His Wife People Worships of Crow
 

पत्नियों से दुखी पुरुषों की मदद करता है ये आश्रम, कौए की पूजा करके निकाला जाता है समाधान

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 July 2018, 12:07 IST

आपने बहुत से अनोखे आश्रमों के बारे में सुना और देखा होगा, लेकन आज हम आपको एक ऐसे आश्रम के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बारे में आपने पहले ही शायद सुना होगा. ये आश्रम महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में स्थित है. जहां पत्नी पीड़ित पुरुषों की मदद की जाती है. इस आश्रम को पत्नी पीड़िक लोगों ने ही खोला है. इस आश्रम में पत्नियों द्वारा प्रताड़ित हो चुके कई पति रहते हैं. यही नहीं कानूनी लड़ाई लड़ने में भी ये आश्रम इन पुरुषों की मदद करता है. इस आश्रम में दूर-दूर से लोग कानूनी सलाह लेने के लिए आते हैं.

बता दें कि ये अनोखा आश्रम महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में स्थित है. जो औरंगाबाद से 12 किलोमीटर दूर शिरड़ी-मुंबई हाइवे पर स्थित है. इस आश्रम में क़ानूनी सलाह के लिए आने वाले लोगों की संख्या दिन ब दिन बढ़ती जा रही है. अब तक इस आश्रम में 500 से ज्यादा लोग सलाह ले चुके हैं. दूर से देखने पर ये आश्रम एक सामान्य घर की तरह नजर आता है, लेकिन आश्रम के अंदर जाते ही अलग अनुभव मिलता है. आश्रम में अंदर घुसते ही पहले कमरे मे कार्यालय बनाया गया है, जहां पत्नी पीडितों को कानूनी लड़ाई के बारे मे सलाह दी जाती है.

आश्रम के कार्यालय में थर्माकोल से बना कौआ सबका ध्यान अपनी ओर आकर्षित करता है. थर्माकोल से बने इस कौआ की हर दिन सुबह-शाम पूजा की जाती है. आश्रम में रहने वाले लोगों का कहना है कि मादा कौआ अंडा देकर उड़ जाती है लेकिन नर कौआ चूजों का पालन पोषण करता है. ऐसी ही स्थिति कुछ पत्नी पीड़ित पतियों की हो जाती है. इसलिए इस आश्रम में कौए की पूजा की जाती है.

यही नहीं इस आश्रम में प्रत्येक शनिवार और रविवार को सुबह 10 से शाम 6 बजे तक पत्नी-पीडितों की काउंसलिंग भी की जाती है. बता दें कि आश्रम खुलने कि शुरूआत में केवल शहर और आसपास के लोग आते थे, लेकिन अब छत्तीसगढ़, गुजरात, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश से तमाम लोग इस आश्रम में सलाह लेने के लिए आ रहे हैं.

इस आश्रम में पीड़ित शख्स की पूरी डिटेल किसी वकील के समान तैयार की जाती है. जिसमें सभी गवाह और सबूतों के बारे में जानकारी लिखी जाती है. आश्रम के संस्थापक भारत फुलारे ने अपनी 1200 स्क्वेयर फीट जगह पर आश्रम के लिए तीन कमरे बनाए हैं.

इस आश्रम में रहने वाले लोग अपना खाना खुद बनाते है. सलाह लेने के आने वाले हर व्यक्ति को खिचड़ी बनाकर खिलाई जाती है. आश्रम में रहने वाला हर सदस्य पैसे जमा कर यहां का खर्चा उठाता है. आश्रम में रहने वाला हर शख्स किसी ना किसी काम में जरूर माहिर है.

ये भी पढ़ें- 10 टन कोकीन पकड़ाने वाले कुत्ते पर गैंग ने रखा 200 मिलियन का इनाम

First published: 28 July 2018, 12:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी