Home » अजब गजब » This is a unique village of India, where houses are painted with black colour
 

ये है भारत का अनोखा गांव, जहां काले रंग से ही रंगे जाते हैं घर, हैरान कर देगी वजह

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 July 2021, 8:14 IST
(Social Media)

अगर आपसे कोई कहे कि आपके इसी रंग से अपना घर रंगना होगा तो यकीनन आपका गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच जाएगा. क्योंकि आपको न तो उसकी सलाह पसंद आएगी और नहीं उसका ये कहना. क्योंकि एक तो घर आपका है जिसे आप किसी भी रंग में रंगने के लिए आजाद हैं दूसरा ये घर को रंगना है तो काले से क्यों. तमाम तरह के रंग हैं जिनसे घर को रंगा जा सकता है. लेकिन हमारे देश में एक ऐसा ही गांव है. जहां आप चाहकर भी अपनी इच्छा से घर नहीं रंग सकते. इस गांव में हर घर को काले ही रंग से रंगना पड़ता है. दरअसल, छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में आदिवासी बाहुल्य गांव और शहर में काले रंग से रंगे हुए मकान आसानी से नजर आते हैं. आदिवासी समज के लोग आज भी अपने घरों की फर्श और दीवारों को काले रंग से रंगते हैं। इसके पीछे कई मान्यताएं हैं.

दिवाली से पहले सभी लोग अपने घरों के रंग-रोगन का काम करवाते हैं. इस साल भी जशपुर जिले के आदिवासी समाज के लोग परंपरा के अनुरूप काले रंग का ही चयन कर घरों को रंग रहे हैं. ग्रामीण घरों की दीवारों को काली मिट्टी से रंगते हैं. इसके लिए कुछ ग्रामीण पैरावट जलाकर काला रंग तैयार करते हैं, तो कुछ टायर जलाकर भी काला रंग बनाते हैं. बता दें कि पहले काली मिट्टी आसानी से उपलब्ध हो जाती थी, लेकिन काली मिट्टी नहीं मिलने की स्थिति में ऐसा किया जा रहा है.


दरअसल, अघरिया आदिवासी समाज के लोग एकरूपता दर्शाने के लिए घरों को काले रंग से रंगना शुरू कर दिया. यह रंग उस समय से इस्तेमाल किया जा रहा है, जब आदिवासी चकाचौंध से दूर थे. घरों को रंगने के लिए उस वक्त काली मिट्टी या छुई मिट्टी ही हुआ करती थी, और इससे रंगाई कर ली जाती थी। आज भी गांव में काले रंग को देखकरपता चल जाता है कि यह किसी आदिवासी का मकान है काले रंग से एकरूपता बनी हुई है.

अकेली बत्तख ने लिया गाय के झुंड़ से पंगा, वीडियो देख रह जाएंगे दंग

काले रंग से रंगे घरों में दिन में भी इतना अंधेरा होता है कि किस कमरे में क्या है इसके बारे में पता केवल घर के सदस्य को होती है. बता दें आदिवासी लोगों के घरों में खिड़की कम होते हैं. छोटे-छोटे रोशनदान होते हैं. ऐसे घरों में चोरी का खतरा कम होता है. इसके साथ ही काले रंग की एक विशेषता ये भी थी कि हर तरह के मौसम में काले रंग की मिट्टी की दीवार आरामदायक होती थी. इतना ही नहीं . आदिवासी दीवारों पर कई कलाकृतियां भी बनाते हैं. इसके लिए भी दीवारों पर काला रंग चढ़ाते हैं.

कोबरा ने निगल ली ऐसी चीज कि खराब हो गई हालत, वीडियो में देखें कैसे तड़पता दिखा नागराज

First published: 10 July 2021, 14:58 IST
 
अगली कहानी