Home » अजब गजब » University of Copenhagen scientists discover 5700 year old chewing gum from DNA of Ancient Woman
 

हजारों साल पहले भी च्युइंग गम चबाते थे लोग, खुदाई में मिले 5700 साल पुराने नमूने

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 December 2019, 18:20 IST

 5700 Year Old Chewing Gum : आपने कभी ना कभी च्युइंग गम (Chewing Gum) जरूर चबाई होगी, बहुत से लोग तो हर वक्त च्युइंग गम चबाते नजर आ जाएंगे, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि च्युइंग गम आधुनिक युग का नहीं बल्कि प्राचीन काल (Ancient Era) का एक पदार्थ है. क्योंकि हाल ही में वैज्ञानिकों ने 5700 साल पुराने एक च्युइंग गम खोजा है. दरअसल, दक्षिणी डेनमार्क (South Denmark) के सिलथोलम में पुरातात्विक खुदाई के दौरान यूनिवर्सिटी ऑफ कोपेनहेगन (University of Copenhagen) के वैज्ञानिकों को एक ऐसी चीज मिली जिसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की थी.

खुदाई के दौरान शोधकर्ताओं को यहां 5700 साल पुराना एक च्युइंग गम मिला है. इसकी मदद से शोधकर्ताओं ने पाया कि पाषाण युग में भी लोग च्युइंग गम चबाया करते थे. इस बात का पता पाषाण युग की एक महिला के दांत ले लिए गए डीएनए से पता चला है.

यह पहली बार है जब शोधकर्ताओं को मानव हड्डियों के अलावा एक अन्य नमूने से एक युग के इंसानों के डीएनए का पता चला है. कोपेनहेगन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के अध्ययन के मुताबिक, च्युइंग गम को जिस महिला ने चबाया था, उसके काले बाल और त्वचा भी काली थी. जबकि उसकी आंखें नीली थीं. शोधकर्ताओं ने पाषाण युग की उस महिला का नाम लोला रखा है.

शोधकर्ताओं के मुताबिक, लोला जहां रहती थी, वहां के लोग मुख्य रूप से मछली पकड़ने का काम करते थे. साथ ही अपनी जीविका चलाने के लिए यहां के लोग शिकार किया करते थे. यह अध्ययन जर्नल नेचर कम्युनिकेशंस में बीते बुधवार को प्रकाशित हुआ है.

शोधकर्ताओं के मुताबिक, उन्होंने एक भोजपत्र के पेड़ की राल के नमूने से पाषाण युग के मानव के आहार और उनके मुंह में मौजूद कीटाणुओं के बारे में भी पता लगाया है. यह खोज वैज्ञानिकों को यह समझने में मदद कर सकती है कि कीटाणु हजारों सालों में किस तरह से बदल जाते हैं.

महिला ने 10 साल तक फ्रीज में छुपा रखी थी अपने पति की लाश

यहां मिला 3600 साल पुराना डिस्पोजल कप, शराब पीने के लिए किया जाता था इस्तेमाल

इस मेले में होती हैं अनोखी शादियां, दूसरे की बीवी चुरा लेते हैं लोग

First published: 19 December 2019, 18:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी