Home » अजब गजब » US student lying on bed for 11 for a unknown disease and treated himself after research
 

11 साल में डॉक्टर भी नहीं दिला पाए बीमारी से निजात, तो पीड़ित ने खुद की रिसर्च और ढूंढ निकाला इलाज

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 July 2019, 14:17 IST

कहते हैं जब इंसान को किसी समस्या से कोई निजात नहीं दिला सकता तब खुद ही उसे अपने रास्ते बनाने होते हैं. ऐसा ही कुछ हुआ अमेरिका के एक स्टूडेंट के साथ. जब वह 11 साल तक एक ऐसी बीमारी के चलते बिस्तर पर पड़ा रहा जिसका डॉक्टर भी इलाज नहीं कर पाए. उसके बाद इस स्टूडेंट ने बीमारी की वजह से अपनी जान ना जाने की सोची और फिर अपना खुद ही इलाज कियाइसके लिए इस स्टूडेंट ने रिसर्च की और अपनी बीमारी का इलाज खोज निकाला. उसके बाद वह बिल्कुट ठीक हो गया और अब लोगों को जिंदगी जीने की गुर सिखाता है.

दरअसल, अमेरिका के रहने वाले डॉउ लिंडसे को 1999 में एक अज्ञात बीमारी ने घेर लिया. जिसकी वजह से वो 11 साल तक बिस्तर पर पड़े रहे. उनके इलाज में डॉक्टर भी फेल हो गए थे. पहले डॉक्टरों ने उनकी बीमारी थॉयराइड से जुड़ी बताई, लेकिन उनका कोई इलाज ना कर सके

उसके बाद डॉउ लिंडसे ने 2,500 पेज की एंडोक्रिनोलॉजी पुस्तक पढ़ डाली. 2010 में उसे पता चला कि उन्हें एड्रीनल ग्लेंड्स (अधिवृक्क ग्रंथी) में ट्यूमर है. इसके बाद डॉउ लिंडसे ने अपने वैज्ञानिक दोस्त की मदद से अपनी सर्जरी करवाई. कुछ ही समय में वो चलने-फिरने लगे. उसके बाद साल 2014 में वह पूरी तरह से फिट हो गए और भागने-दौड़ने लगे. डॉउ लिंडसे अब मोटिवेशनल क्लासेस लेते हैं.

डॉउ लिंडसे रॉकहर्ट्स यूनिवर्सिटी में पढ़ते थे. तभी उन्हें ये बीमारी हुई थी. जब वह बीमार हुए तब उनकी उम्र 21 साल थी. अब डॉउ लिंडसे 40 साल के है और लोगों को मोटिवेशन क्लास देते हैं. जब वह पहली बार बीमार हुए तो घर पर ही बेहोश होकर डाइनिंग टेबल से गिर गए थे. उसके बाद वह बार-बार बेहोश होने लगे. डॉक्टर को समझ नहीं आया कि आखिर उन्हें हुआ क्या. बता दें कि बचपन में डॉउ लिंडसे की मां और मौसी को भी इसी बीमारी से पीड़ित थीं.

हनीमून के दौरान ज्वालामुखी में गिरा पति तो साहसी पत्नी ने ऐसे दिया जीवनदान 

First published: 31 July 2019, 14:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी