Home » अजब गजब » Women Ring lost in Portland 47 years ago Now found in Finland
 

47 साल पहले खोई थी अंगूठी, अब फिनलैंड के जंगलों में जमीन के नीचे मिली

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 February 2020, 18:26 IST

एक अमेरिकी महिला डेब्रा मैक्केना की एक अंगूठी करीब 47 साल खो गई थी. वहीं अब उनकी यह अंगूठी फिनलैंड के जंगल में मिली है. हालांकि यह अंगूठी यह कैसे पहुंची यह किसी को नहीं पता. बांगोर डेली न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार 63 वर्षीय डेबरा मैककेना ने पोर्टलैंड में रिंग खो दी, जब वह मोर्स हाई स्कूल में एक छात्रा थी. उन्होंने कहा कि अंगूठी को काफी हद तक भुला दिया गया था जब तक कि एक शीट मेटल वर्कर ने 47 साल बाद फिनिश फ़ॉरेस्ट में 8 इंच (20 सेंटीमीटर) मिट्टी के नीचे नहीं पाया.

रिपोर्ट की मानें तो यह अंगूठी मैककेना के दिवंगत पति शॉन की थी, जिसने पूरे हाई स्कूल और कॉलेज में उनके साथ पढ़ाई की थी. इन दोनों ने साल 1977 में शादी की थी और वो शॉन के मृत्यु तक साथ रहे थे. साल 2017 में कैंसर के कारण शॉन की मृत्यु हुई थी. शॉन ने कॉलेज जाने से पहले मैककेना को अंगूठी दी, और उसने गलती से एक डिपार्टमेंटल स्टोर में छोड़ दिया.

63 साल की डेब्रा मैक्केना ने बताया कि यह अंगूठी पिछले हफ्ते उनके पास मेल के जरिए आई. उन्होंने कहा,'इसे देखकर मैं हैरान रह गई और काफी देर तक रोते रही. यह अंगूठी मेरे दिवंगत पति शान की है. 1973 में हम दोनों ने मोर्स हाईस्कूल और कॉलेज में एक-दूसरे को डेट किया था. यह अंगूठी तब शान ने पहनी थी, लेकिन कॉलेज छोड़ने के वक्त उसने मुझे दे दी.दुर्भाग्यवश मैं इसे डिपार्टमेंट स्टोर में भूल गई थी. मुझे उम्मीद नहीं थी कि यह मुझे वापस मिलेगी. इस पर “एस” और “एम” अंकित है. शादी के बाद हम 40 साल साथ रहे.'

वहीं रिंग मिलने के बाद उस व्यक्ति जिसे यह रिंग मिली थी उसने इसके मालिक की पहचान शुरू की थी. उसकी यह खोज मोर्स हाई स्कूल पर जाकर खत्म हुई जहां पूर्व छात्र संघ को रिंग के मालिक की पहचान करने में कोई परेशानी नहीं हुई. इस रिंग पर साल 1973 अंकित था. इसके साथ ही इस पर स्नातक स्तर की पढ़ाई की तारीख और शुरुआती "S.M." अंदर की तरफ उत्कीर्ण थे. शॉन का कोई मध्य नाम नहीं था और उसकी कक्षा में किसी और का नाम इससे शुरू नहीं होता था. ऐसे में डेब्रा मैक्केना की पहचान आसानी से हो पाई.

मैककेना को इस बात का कोई पता नहीं है कि आखिर फिनिश जंगल में लंबे समय से खोई हुई अंगूठी कैसे पहुंची है. उन्होंने कहा कि शॉन ने 1990 के दशक की शुरुआत में फिनलैंड में काम करने में कुछ समय बिताया लेकिन वह कभी उस शहर के पास नहीं थे जहां अंगूठी मिली थी.

कोरोना वायरस के नाम से हो रहे ऑनलाइन फ्रॉड और हैकिंग, आपको भी आया मेल तो हो जाए सावधान

First published: 17 February 2020, 18:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी