Home » अजब गजब » World Famous Donkey Library of Colombia that's name is Biblioburro Guy Traveling on Two Donkey with Books
 

ये शख्स चलाता है चलती-फिरती 'गधा लाइब्रेरी', मुफ्त में देता है गरीब बच्चों को शिक्षा

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 July 2018, 19:11 IST

दुनिया में कुछ लोग वाकई ऐसे काम करते हैं जिन्हें भगवान का दूत या फरिश्ता कहना शायद कम होगा. जैसे कि कोलंबिया के रहने वाले सोरियानो कर रहे हैं. हमारे देश में भले ही गधों के साथ कोई काम करना हंसी का पात्र बनने के लिए काफी होगा, लेकिन सोरियानो को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. क्योंकि सोरियानो बच्चों में पढ़ाई का अलख जगाने के लिए गधों का ही सहारा ले रहे हैं.

दरअसल, कोलंबिया के रहने वाले सोरोनियो गधा लाइब्रेरी चलाते हैं.ये जानकर आपको भले ही आश्चर्य हो लेकिन बात बिल्कुल सच हैं. क्योंकि सेरोनियो दो गधों पर किताबें लेकर इधर-उधर जाते हैं और बच्चों को किताबें पढ़ने के लिए देते हैं

इस डंकी लाइब्रेरी को चलाने वाले सोरोनियो की कहानी बड़ी दिलचल्प है.उन्होंने अपनी लाइब्रेरी का नाम बिलियोबुरो रखा है. कोलंबिया में लाइब्रेरी को बिबलियोटेका और गधे को बुरो कहते हैं इसलिए दोनों को मिलाकर सेरोनियो ने इस लाइब्रेरी का नाम 'बिलियोबुरो' रखा है.

बता दें कि सोरियानो ने स्पेनिश लिटरेचर में डिग्री ली थी. उसके बाद वो एक प्राइमरी स्कूल में टीचर हो गए. लेकिन उनके इलाके के गरीब किसानों के बच्चों के पास पढ़ने के लिए किताबें नहीं थीं और वहां तक कार से चलना मुश्किल था. इसलिए उन्होंने दो गधे खरीदे और घर-घर जाकर बच्चों को पढ़ाने लगे. वो करीब दस किलोमीटर का सफर रोजाना गधों से ही तय करते हैं.

 

सोरिनियो ने करीब दस साल पहले 70 किताबों से इस लाइब्रेरी की शुरुआत की थी. लेकिन अब उन्होंने अपने इलाके में एक पक्की लाइब्रेरी भी बनवा दी है, जिसमें करीब 4800 किताबें हैं. लेकिन उनकी गधा मोबाइल लाइब्रेरी आज भी जारी है.

कोलंबिया की ये डंकी लाइब्रेरी अब काफी प्रसिद्ध हो चुकी है. अब लोग उन्हें दूर से पहचान लेते हैं. वहीं सोरियानों अब गधों पर 150 किताबें लेकर चलते हैं. गांवों में पहुंचकर किताबें सजाते हैं और बच्चों के साथ बैठकर किताबों की कहानियां सुनाते हैं. उनकी लाइब्रेरी की सबसे लोकप्रिय किताबें चिल्ड्रन एडवेंचर स्टोरी बुक्स हैं.

बता दें कि एक बार सोरियानों गधे पर बैठकर जा रहे थे और गिर गए जिससे उनका पैर टूट गया, लेकिन जैसे ही वो ठीक हुई दोबारा अपने गधों के साथ काम पर निकल पड़े.

ये भी पढ़ें- जापान की इस नर्स ने इस छोटी बात से नाराज होकर 20 मरीजों को जान से मार डाला

First published: 12 July 2018, 19:04 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी