Home » अजब गजब » Worlds Smallest Dinosaur Fossil Found in Myanmar which is one thousand crore years old
 

यहां मिला एक हजार करोड़ साल पुराने डायनासोर का अवशेष, जो था दुनिया का सबसे छोटा

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 March 2020, 13:11 IST
(प्रतीकात्मक फोटो)

Worlds Smallest Dinosaur Fossil Found in Myanmar: प्राचीनकाल (ancient time) में दुनिया में विशालकाय डायनासोर (Huge Dinosaur ) हुआ करते थे. इसके बारे में हमने कई बार पढ़ा और सुना भी है, लेकिन आपने कभी दुनिया के सबसे छोटे डायनासोर (Smallest Dinosaur) के बारे में नहीं सुना. लेकिन प्राचीनकाल में छोटे डायनासोर भी हुआ करते थे. इस बात का खुलासा हाल ही में म्यांमार में मिले दुनिया के सबसे छोटे डायनासोर के अवशेष मिलने के बाद हुआ है. डायनासोर का ये अवशेष किसी पक्षी के बराबर का है. जो 'हमिंग बर्ड' से भी छोटा था. बता दें कि हमिंग बर्ड को दुनिया का सबसे छोटा पक्षी माना जाता है, जिसका वजन दो ग्राम के आसपास होता है.

दुनिया के सबसे छोटे डायनासोर के ये अवशेष एक एंबर में मिले हैं. बता दें कि एंबर पीले रंग का एक कठोर पारदर्शी पदार्थ होता है, जिसका इस्तेमाल आभूषण बनाने के लिए किया जाता है. वैज्ञानिकों के मुताबिक, इस डायनासोर की मौत पेड़ के किसी छोटे से छेद में सिर अटकने से हुई थी. इसके बाद पेड़ की गोंद ने उसके सिर को ढंक दिया, जिससे वह हमेशा-हमेशा के लिए सुरक्षित हो गया.

शोधकर्ताओं के मुताबिक, डायनासोर का ये अवशेष करीब 990 लाख साल पुराना (नौ करोड़ 90 लाख) बताया जा रहा है. शोधकर्ताओं ने इसका नाम ओकुलुडेन्टावीस रखा है. उन्होंने कम्प्यूटर से इसका पूरा ढांचा भी बनाया है. ऐसा माना जा रहा है कि ये डायनासोर कीट-पतंगों को अपना शिकार बनाता होगा. शोधकर्ताओं को जो अवशेष मिले हैं, उसके मुताबिक इस छोटे डायनासोर के जबड़े में कई दांत भी पाए गए हैं.

वैज्ञानिकों के लिए जिंदगीभर रहस्य बना रहा ये 'दिव्य' शख्स, इसके पास थी रहस्यमयी शक्तियां

बताया जा रहा है कि ये डायनासोर बिल्कुल ही अनोखा है. चायनीज एकेडमी ऑफ साइसेंस की जीवाश्म वैज्ञानिक और रिसर्च पेपर की मुख्य लेखिका जिंग्मा ओ'कोन्नोर के मुताबिक, मौजूदा समय में पाए जाने वाले पक्षियों के दांत नहीं होते जबकि इस छोटे से डायनासोर के जबड़े में दांत भी थे.

रहस्यमयी तरीके से गायब हो गया था 92 यात्रियों से भरा ये विमान, 35 साल बाद की थी लैंडिंग

इस रहस्यमयी शहर को बनाने वाले का आजतक नहीं चला पता, जिसे कहा जाता है 'प्लेस ऑफ गॉड'

इस छोटे डायनासोर से जुड़ा शोध नेचर जरनल में प्रकाशित किया गया है. लॉस एंजिल्स काउंटी के नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम के लार्स श्मिट्ज का कहना है कि, यह एक दुर्लभ शारीरिक संरचना है. उनका कहना है कि इस असामान्य जीव की आंखें भी इतनी बड़ी थीं कि वो उसके सिर के किनारों से बाहर निकल जाती थीं.

एक ऐसी झील जिसका रहस्य देख लोग है हैरान, पानी में समाया है पूरा जंगल

नीम के पेड़ से निकलने का मीठा दूध, लोगों ने शीतला माता समझ शुरु की पूजा-अर्चना

ऐसा गांव जहां हर घर से जाते है फौज में, कहलाता है एशिया का सबसे बड़ा विलेज

First published: 14 March 2020, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी