Home » अजब गजब » Zone Rouge or Red Zone: Most fatal Place of France where Human and Animals not allow to go
 

100 साल से बीरान पड़ा है फ्रांस का ये इलाका, इंसान ही नहीं जानवरों के जाने पर भी है पाबंदी

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 March 2020, 16:13 IST

Zone Rouge or Red Zone: कोरोना वायरस (Corona Virus) ने दुनियाभर (Worlwide) में हाहाकार मचा दिया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी इसे महामारी घोषित किया है. ये कोई पहली बार नहीं है जब धरती पर इस तरह की बीमारी पैदा हुई है. इससे पहले भी कई बार ऐसी बीमारियां पैदा हुईं जिन्होंने सैकड़ों लोगों की जान ले ली. फ्रांस (France) में एक गांव ऐसा है जो पिछले सौ साल से बीरान पड़ा है. इस गांव में इंसानों के साथ-साथ जानवरों के जाने पर भी पाबंदी है. इस गांव का नाम है 'जोन रोग'. जोन रोग फ्रांस के उत्तर-पूर्वी इलाके में स्थित है.

पिछले 100 सालों से इस इलाके को फ्रांस के बाकी क्षेत्रों से काटकर रखा गया है, जिससे यहां कोई आ जो न सके. इतना ही नहीं, इस इलाके में जगह-जगह 'डेंजर जोन' के बोर्ड भी लगे हुए हैं, जो यह दर्शाते हैं कि यहां आना अपनी जान को जोखिम में डालना है. दरअसल, फ्रांस के इस इलाके को 'रेड जोन' के नाम से जाना जाता है. प्रथम विश्व युद्ध से पहले यहां कुल नौ गांव थे, जहां लोग रहा करते थे और खेती करके अपना गुजारा करते थे. लेकिन विश्व युद्ध में यहां इतने गोला-बारूद और बम गिरे कि पूरा का पूरा इलाका बर्बाद हो गया. यहां लाशों के ढेर लग गए और भारी मात्रा में केमिकल युक्त युद्ध सामग्री पूरे इलाके में फैल गई.

बताया जाता है कि इस इलाके में जमीन ही नहीं बल्कि पानी भी जहरीला हो गया है. इस पानी को साफ करना मुश्किल ही नहीं बल्कि नामुमकिन है. इन्हीं कारणों से फ्रांस की सरकार ने इसे 'जोन रोग' या 'रेड जोन' घोषित कर दिया और इंसानों से लेकर जानवरों तक के यहां आने पर पाबंदी लगा दी.

साल 2004 में कुछ शोधकर्ताओं ने 'जोन रोग' की मिट्टी और पानी का परीक्षण किया. जिसमें भारी मात्रा में आर्सेनिक पाया गया. आर्सेनिक एक जहरीला पदार्थ है, जिसकी एक छोटी सी मात्रा ही अगर गलती से भी इंसान के मुंह में चला जाए तो कुछ ही घंटों में उसकी मौत हो जाती है. हालांकि कुछ लोग इस जगह को भुतहा भी मानते हैं. उनका मानना है कि पहले विश्व युद्ध के दौरान मारे गए लोगों के आत्माएं यहां भटकती रहती हैं. हालांकि, उस समय के नौ गांव, जो युद्ध में बर्बाद हो गए, उनमें से दो गांवों का आंशिक रूप से पुनर्निमाण चल रहा है, जबकि बाकी के छह गांव अभी भी वीरान हैं.

पत्नी को धोखा देकर गर्लफ्रेंड के साथ गया था इटली, वापस लौटा तो साथ लाया कोरोना

पिता को टेडी बियर में सुनाई दी मृत बेटे के दिल की धड़कन, वीडियो देखकर हो जाएंगे भावुक

लॉकडाउन के दौरान बाइक पर घूमने निकले थे दो दोस्त, पुलिस पकड़ कर दी धुनाई, वीडियो में देखें फिर हुआ क्या

First published: 26 March 2020, 16:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी